करसोग में 300 स्वयंसेवियों को तोहफे

करसोग  –गुरु तथा शिष्य को एक साथ एक मंच पर राष्ट्रीय पुरस्कार मिलना शायद किसी भी व्यक्ति के जीवन में असमरणीय पल होते हैं, और एनएसएस  क्षेत्र में सराहनीय कार्य करने पर गुरु तथा शिष्य को राष्ट्रपति से पुरस्कार मिलना बहुत बड़ी उपलब्धि बनते हुए एनएसएस कार्यकर्ताओं के लिए प्रेरणा है। यह अनुभव राज्य स्तरीय एनएसएस के पांच दिवसीय मेगा शिविर दौरान चौथे दिन बतौर मुख्यातिथि पहुंचे डा. गोपाल शर्मा ने एनएसएस कार्यकर्ताओं के साथ साझा किए। उन्होंने बताया की उनके शिष्य विद्यार्थी नीरज शर्मा को जहां एनएसएस वालंटियर का सर्वश्रेष्ठ राष्ट्रीय पुरस्कार महामहिम राष्ट्रपति के हाथों प्रदान किया गया वहीं उन्हें भी हिमाचल प्रदेश के महाविद्यालयों में पहले एनएसएस कार्यक्रम अधिकारी के तौर पर राष्ट्रपति के हाथों यह पुरस्कार पाने का स्वर्णिम अवसर मिला है। राज्य स्तरीय पांच दिवसीय शिविर में पहुंचने पर डाक्टर गोपाल शर्मा का जोरदार स्वागत एनएसएस कार्यकर्ताओं द्वारा किया गया। इस मौके पर महाविद्यालय प्राचार्य डा. दीपा शर्मा व एनएसएस कार्यक्रम अधिकारी कुलभूषण शर्मा ने आभार जताते हुए कहा कि करसोग के इस शिविर में उनका मार्गदर्शन अन्य एनएसएस कार्यकर्ताओं को मिला है। प्रदेश के लगभग 70 महाविद्यालयों से राज्य स्तरीय एनएसएस के मेगा शिविर करसोग पहुंचे करीब 300 राष्ट्रीय स्वयंसेवियों को राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजे गए कार्यक्रम अधिकारी रहे डाक्टर गोपाल शर्मा ने संबोधित करते हुए कहा कि एनएसएस के साथ जुड़ा हर कार्यकर्ता भाग्यशाली है कि उन्हें इसके माध्यम से सेवा समर्पण का मौका मिला है। उन्होंने कहा कि हर मुश्किल का राह आसान निश्चित तौर पर सामने है यदि इरादा मजबूत है और लक्ष्य सेवा समर्पण का है डा. गोपाल शर्मा ने कहा कि एनएसएस कार्यकर्ता जब आरडी परेड में शामिल होता है तो वह पल उसके लिए गौरव की बात है। इस बात को हमेशा याद रखना चाहिए। राष्ट्रपति से अवार्ड प्राप्त करने वाले डाक्टर गोपाल शर्मा ने कहा कि एनएसएस का कार्यकर्ता सभी मुश्किलों को आसान करने के लिए रास्ता जानता है उसका मजबूत इरादा हर कार्य को करने की क्षमता रखता है। एनएसएस सेवा समर्पण की पहचान रखते हुए पूरे समाज की प्रेरणा है। उनके साथ राष्ट्रपति से एनएसएस सर्वश्रेष्ठ वालंटियर का पुरस्कार पाने वाले विद्यार्थी नीरज शर्मा भी पहुंचे हुए थे, जिन्होंने अपने गुरु डाक्टर गोपाल शर्मा को एनएसएस में प्रेरणा का स्रोत बताते हुए कहा कि जो भी सीखा है वह एनएसएस के कार्यों में ही सीखा है, अच्छा नागरिक बनना भी देशभक्ति है, जल संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण, स्वच्छता आदि अनेकों कार्य देश को समर्पित है तथा एनएसएस कार्यकर्ता की पहचान सेवा समर्पण है। नीरज शर्मा ने कहा कि देश की जनता ठीक है तो सरकार भी ठीक कार्य करेगी इस तर्ज पर चलते हुए पहले स्वयं को अनुशासित व देश के प्रति समर्पण भावना से मिसाल रखें तभी सरकारें भी अच्छा काम करेगी यह बात निश्चित है।

You might also like