छात्रवृत्ति घोटाला : शिक्षा विभाग के अधीक्षक से पूछताछ

सीबीआई थाने में चल-अचल संपत्ति व बैंक खातों की ली जानकारी; लैपटॉप, हार्ड डिस्क, पेन ड्राइव की होगी जांच

शिमला – छात्रवृत्ति घोटाले में शिक्षा विभाग के जिस अधीक्षक के ठिकानों पर गत गुरुवार दबिश दी गई थी, उससे शुक्रवार को सीबीआई थाने में पूरा दिन पूछताछ हुई। सूत्र बताते हैं कि इस पूछताछ में अधीक्षक ने कई राज उगले हैं। अलबत्ता शनिवार को दोबारा से उसे सीबीआई थाने में बुलाया गया है। सीबीआई ने उसके ठिकानों से जो सामान जब्त किया था, उसे खंगालने का दौर शुरू हो गया है। गत गुरुवार को सीबीआई ने इस अधीक्षक के ठिकानों पर तीन जगह छापे मारे थे और इसकी चल-अचल संपत्ति का पूरा रिकार्ड जब्त किया है। शुक्रवार को सीबीआई की पूछताछ का सिलसिला सुबह 10 बजे से शुरू हुआ और देर शाम तक चलता रहा। सीबीआई सूत्रों की मानें, तो पुछताछ में शिक्षा विभाग के अधीक्षक ने अपनी चल-अचल संपतियों और बैंक खातों की डिटेल की पूरी जानकारी भी दे दी है। सीबीआई ने सवाल किया कि छात्रवृत्ति घोटाले में गबन किए गए रुपयों को विभाग में किस-किस अधिकारी को बांटा गया है और छात्रवृत्तियां हड़पने में किसकी साजिश अहम रही है। यही नहीं, सीबीआई जांच टीम ने तीनों ठिकानों से कब्जे में लिए गए लैपटॉप, हार्ड डिस्क, पेन ड्राइव और दस्तावेज के बारे में भी सवाल जवाब किए। इनकी जांच पड़ताल यहां सीबीआई के शिमला थाना की ही लैब में करवाई जाएगी। बता दें कि पिछले कल इस अधीक्षक के  संजौली, भट्टाकुफर और कोटखाई स्थित घर पर एक साथ धावा बोला गया है। सीबीआई की अलग-अलग टीमोें ने दिन भर अधीक्षक ग्रेड-2 के पद पर कार्यरत अधिकारी के तीनों ठिकानों पर छापेमारी कर घर का कोना-कोना खंगाला। यह कार्रवाई देर रात तक चलती रही। सीबीआई ने शिक्षा विभाग अधीक्षक के तीनों ठिकानों से लैपटाप, हार्ड डिस्क, पेन ड्राइव सहित कुछ महत्त्वपूर्ण दस्तावेजों को कब्जे में लिया। सीबीआई की एकाएक कार्रवाई से हड़कंप मच गया था। सीबीआई ने जिस संबधित अधिकारी के घर पर दबिश दी वह पूर्व में शिक्षा निदेशालय में तैनात था और वर्तमान में बल्देयां में तैनात है।

अधिकारियों-कर्मचारियों से भी होगी पूछताछ

सीबीआई अब इस मामले में जांच दायरे में आए बैंक और निजी शिक्षण संस्थानों के अधिकारियों व कर्मचारियों से भी पूछताछ करेगी। जल्द ही गिरफ्तारियों का दौर भी शुरू हो सकता है। मामले की जांच के तहत वर्ष 2013 से लेकर 2017 तक की छात्रवृत्ति से जुड़ा रिकार्ड कब्जे में ले लिया है।

22 निजी शिक्षण संस्थान जांच के दायरे में

प्रदेश में पूर्व सरकार के समय में हुए करोड़ोंरुपए के छात्रवृत्ति घोटाले में 22 निजी शिक्षण संस्थान सीबीआई जांच दायरे में है। सीबीआई के अनुसार संबंधित निजी शिक्षण संस्थान ऊना, करनाल, मोहाली, नवांशहर, अंबाला, शिमला, सिरमौर, सोलन, बिलासपुर, चंबा, गुरदासपुर, कांगड़ा आदि क्षेत्रों में है।

You might also like