तीसरा दिन… छह अवैध अतिक्रमण गिराए

 नाहन शहर में अवैध भवनों पर चला हथौड़ा, उच्च न्यायालय के कड़े निर्देश के बाद हरकत में आई नगर परिषद, लोगों ने लगाए भेदभाव के आरोप

नाहन -नाहन शहर में अवैध निर्माण व अतिक्रमण हटाए जाने की प्रक्रिया बुधवार तीसरे दिन भी जारी रही। नगर परिषद ने भारी पुलिस बल व प्रशासन की मौजूदगी में बुधवार को नाहन शहर में छह चिन्हित अतिक्रमण व अवैध निर्माण पर जेसीबी चलाई। इस दौरान संबंधित भवन मालिक अपने आप को पूर्ण रूप से असहाय महसूस करते हुए अपनी आंखों के सामने अपने आशियाने को उजड़ता देख भावुक हो रहे थे। भले ही नगर परिषद नाहन ने शहर में अवैध निर्माण व अतिक्रमण को हटाने की मुहिम शुरू कर दी है, परंतु नाहन शहर के उन गरीब तबके के लोगों में नगर परिषद व प्रशासन के खिलाफ खासा गुस्सा व रोष है जिनके मकान धराशाही कर दिए गए हैं। उनका कहना है कि नगर परिषद चिन्हित किए गए प्रतिदिन की लिस्ट में फेरबदल कर रही है तथा मोटी मछलियों व धनाड्य लोगों पर हाथ नहीं डाला जा रहा है उन्हें न्यायालय में अपील करने का समय दिया जा रहा है। ऐसे में स्पष्ट है कि आखिरकार गरीबों के आशियाने पर जेसीबी के पहिए चढ़ाए जा रहे हैं, परंतु धनाड्य लोगों की कौठियां अभी भी जस की तस हैं। बुधवार को नगर परिषद के कर्मचारियों, मजदूरों के अलावा पुलिस बल व जिला प्रशासन के कर्मचारी व अधिकारी चिन्हित लिस्ट के मुताबिक शहर के दिल्ली गेट से अवैध निर्माण हटाने के लिए कार्य पर जुट गए थे। प्रथम चरण में दिल्ली गेट स्थित जय प्रकाश पुत्र काली राम के चार वर्ग मीटर पर किए गए अवैध कब्जे को हटाया गया।  उसके पश्चात पेट्रोल पंप के समीप राम प्रकाश उर्फ नंदलाल पुत्र रामजी दास का 20.5 वर्ग मीटर में बना मकान, धर्मेंद्र, संजय व अजय का कच्चा टैंक में निर्मित 5.45 वर्ग मीटर की भूमि पर अवैध कब्जा हटाया गयाञ। शहर के रामकुंडी में नगर परिषद की 122.50 वर्ग मीटर भूमि पर अविदा बेगम द्वारा किए गए अतिक्रमण व अवैध कब्जे को तहस-नहस किया गया। उसके पश्चात मोहल्ला रामकुंडी निवासी नाजीरन पत्नी उम्रदीन द्वारा नगर परिषद की 15.22 वर्ग मीटर भूमि पर बनाए गए टीन के शैड् के अलावा मोहल्ला रामकुंडी निवासी सलीम पुत्र उम्रदीन के 15.22 वर्ग मीटर में निर्मित किए गए टीन के शैड् पर जेसीबी का पंजा चला दिया गया। जिला प्रशासन की ओर से तहसीलदार नाहन नारायण चौहान तीसरे दिन भी लगातार दिन भर अवैध निर्माण व अतिक्रमण को हटाए जाने के दौरान कानून व्यवस्था की बागडोर संभाले हुए थे। इसके अलावा डीएसपी मुख्यालय पदम देव ठाकुर, थाना प्रभारी नाहन मानवेंद्र ठाकुर, नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी अजमेर ठाकुर, सहायक अभियंता परवेज इकबाल समेत भारी अमला मौके पर मौजूद रहा। नगर परिषद अभी तक कुल 43 अतिक्रमणों पर जेसीबी चला चुका है। प्रथम चरण में 19 अवैध निर्माण आंशिक रूप से हटाए गए, जबकि दूसरे चरण में सोमवार को पहले दिन 10 अतिक्रमण, मंगलवार को आठ व बुधवार को छह अतिक्रमण हटाए गए। बुधवार को अवैध निर्माण व अतिक्रमण हटाए जाने की प्रक्रिया की पुष्टि करते हुए तहसीलदार नाहन नारायण चौहान ने बताया कि इस दौरान पूर्ण रूप से शांति व्यवस्था शहर में कायम रही। उन्होंने कहा कि धारा 144 शहर में लागू की गई है। तहसीलदार ने कहा कि प्रदेश उच्च न्यायालय के आदेशानुसार शहर में अवैध निर्माण व अतिक्रमण को हटाया जा रहा है। नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी अजमेर ठाकुर ने बताया कि फिलहाल यह प्रक्रिया अभी जारी रहेगी तथा चिन्हित किए गए अवैध निर्माण व अतिक्रमण को न्यायालय के निर्देशानुसार हटाया जा रहा है।

अवैध निर्माण हटाने की प्रक्रिया पर सवाल

नाहन शहर में नगर परिषद द्वारा जिला प्रशासन की मौजूदगी में अतिक्रमण व अवैध निर्माण हटाए जाने की प्रक्रिया पूर्ण रूप से पक्षपातपूर्ण ठहराई गई है। जिन लोगों के निर्माण पर जेसीबी दौड़ाई गई उनमें शामिल सावित्री देवी, कुलदीप कुमार, कौशल्या देवी, मीमा राम, सलीम, नाजीरन, अविदा बेगम, जय प्रकाश, विनोद कुमार, गीता राणा, अवतार सिंह आदि ने बताया कि नगर परिषद ने अतिक्रमण हटाए जाने में भाई-भतीजावाद अपनाया है। धनाड्य लोगों के अतिक्रमण को नहीं हटाया जा रहा है तथा गरीब तबके के लोगों को न्यायालय की आंख में धूल झोंकने के लिए निशाना बनाया जा रहा है। प्रभावित लोगों का कहना है कि गरीबों की कोई सुनवाई नहीं है।

You might also like