नई ड्रेस क्यों नहीं पहन रहे छात्र

वर्दी बंट जाने पर प्रारंभिक शिक्षा विभाग ने उपनिदेशकों और सभी स्कूल प्रबंधन से मांगा जवाब

शिमला – राज्य के सरकारी स्कूलों में अगर लाखों छात्रों को वर्दी मुहैया करवा दी गई है, तो वे पहनकर क्योंं नहीं आ रहे हैं। यह सवाल प्रारंभिक शिक्षा विभाग ने स्कूल प्रबंधन से किया है। विभाग के निदेशक रोहित जम्वाल की ओर से जारी किए गए आदेशों में जिला उपनिदेशक व स्कूल प्रबंधन को कहा गया है कि जिन स्कूलों में नई वर्दी आबंटित कर दी गई है, वहां पर 15 सिंतबर तक छात्र वर्दी सिलवाने का कार्य पूरा करें। प्रारंभिक शिक्षा विभाग की ओर से जारी किए गए आदेशों में उपनिदेशकों व स्कूल प्रबंधन से जवाब तलब किया गया है। बता दें कि सरकारी स्कूलों में अटल स्कूल वर्दी योजना के तहत दो माह पहले स्कूलों में वर्दी आबंटन की प्रक्रिया शुरू कर दी थी। वहीं शिक्षा विभाग ने दावा भी किया है कि 80 प्रतिशत स्कूलों में वर्दी आबंटन की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। बावजूद इसके अभी तक नई वर्दी में छात्रों के न आने की वजह से निदेशालय ने चिंता भी जाहिर की है। शिक्षा विभाग ने अंदेशा जताया है कि कई ब्लॉक में वर्दी छात्रों तक पहुंचाई नहीं गई है। यही वजह है कि शिक्षा विभाग ने वर्दी के कलेक्शन सेंटर से भी वर्दी आबंटन को लेकर रिपोर्ट मांगी है कि स्कूलों में वर्दी पहुंची है या नहीं। गौर हो कि 15 सिंतबर के बाद स्कूलों में  छात्र भूरे और हरे रंग के कलर में दिखेंगे। जानकारी के अनुसार 80 हजार सेट सरकार ने प्रदेश के कलेक्शन सेंटर्ज में पहले से ही पहुंचा दिए थे। बताया जा रहा है कि राज्य के बिलासपुर, हमीरपुर, चंबा, शिमला जिला में वर्दी के सबसे ज्यादा सेट पहुंचाए गए हैं। खाद्य आपूर्ति निगम का दावा है कि जिलों में पहुंचाए गए वर्दियों के सेट कम नहीं होंगे। वर्दी का कपड़ा एक्स्ट्रा स्कूलों तक दिया गया है।

सलेटी, पीले व हरे रंग में दिखेंगे छात्र

कक्षा पहली से लेकर जमा दो तक  के छात्र तक ग्रे, पीले व हरे रंग में नजर आएंगे। सभी जिलों से छात्रों की फोटो के साथ स्कूल प्रबंधन को डिटेल भेजनी होगी। सरकारी स्कूलों के लगभग आठ लाख छात्रों को अटल वर्दी योजना का फायदा राज्य सरकार ने इस बार दिया है। लगभग डेढ़ साल बाद छात्रों को मिलने वाली स्मार्ट वर्दी के लिए छात्रों को दो सेट वर्दी के विभाग की ओर से पहुंचाए गए हैं।

You might also like