निवेश पर और जोर देने की जरूरत

मनाली –स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार ने कहा है कि ग्लोबल इन्वेस्टर मीट के आयोजन में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की व्यक्तिगत रुचि है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा विशेष औद्योगिक पैकेज दिए जाने के बाद राज्य में अभूतपूर्व औद्योगिक विकास हुआ, लेकिन पैकेज के पूरा होने के उपरांत राज्य में निवेश आकर्षित करने के लिए विशेष बल प्रदान करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि राज्य ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में सराहनीय प्रगति की है और इस क्षेत्र में निजी निवेश की व्यापक संभावनाएं हैं। राज्य में सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल स्थापित करने की व्यापक संभावनाएं हैं।

वन मंत्री ने सराहा सीएम का नेतृत्व

वन मंत्री गोविंद ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री के गतिशील नेतृत्व में प्रदेश प्रगति और उन्नति के पथ पर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि जयराम ठाकुर के दूरदर्शी नेतृत्व में 85000 करोड़ रुपए के निवेश को आकर्षित करने के लिए ग्लोबल इन्वेस्टर्ज मीट की अवधारणा पर विचार किया गया।

व्यापार में सुगमता के प्रयास

उद्योग मंत्री विक्रम ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार उद्यमियों को सभी सुविधाएं उपलब्ध करवाने और निवेश को सुविधाजनक बनाने के लिए कृतसंकल्प है। सरकार व्यापार में सुगमता के लिए विशेष प्रयास कर रही है और राज्य में शांत वातावरण और अनुकूल व्यापारिक परिस्थितियां हैं। उद्योग विभाग ने राज्य में औद्योगिक इकाइयों को स्थापित करने की स्वीकृति प्रदान करने के लिए सक्रिय दृष्टिकोण अपनाया है। उन्होंने ग्लोबल इन्वेस्टर मीट में आने के लिए उद्यमियों को भी आमंत्रित किया।

बाल्दी ने रखा धन्यवाद प्रस्ताव

मुख्य सचिव डा. श्रीकांत बाल्दी ने धन्यवाद प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि इस कान्क्लेव का मुख्य केंद्र पर्यटन, स्वास्थ्य और वेलनेस है। राज्य में इस समय एक लाख पर्यटकों की क्षमता है, जिसे और बढ़ाए जाने की आवश्यकता है। अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग मनोज कुमार ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री, मंत्रियों,  अधिकारियों और कुल्लू मनाली क्षेत्र के निवेशकों का स्वागत किया। निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा ने इस अवसर पर निवेशकों को राज्य की नई उद्योग नीति के संबंध में जानकारी दी। 

You might also like