पीएचडी करने यूके जाएंगे निखिल

जुखाला-वैसे तो देश-प्रदेश से विभिन्न विद्यार्थी उच्चत्तर शिक्षा प्राप्त करने के लिए विदेश जाते हैं। लेकिन बिना एक भी पैसा खर्च किए किसी विद्यार्थी पर 52 लाख रुपए यूके के विश्व विद्यालय द्वारा खर्च किए जा रहे हों तो बात अवश्य ही आश्चर्यजनक कही जा सकती है। जी हां ऐसा ही एक छात्र बिलासपुर के जुखाला का समीप पंजैतन गांव का निवासी है ,जिसका चयन केलेडोनियन विश्वविद्यालय स्काटलैंड यूके द्वारा पीएचडी अनुसंधान हेतु किया गया है। निखिल शर्मा स्वर्गीय स्वतंत्रता सेनानी मठिया राम के परपोत्रे हैं। उनके पिता अमित शर्मा भाषा एवं संस्कृति विभाग निदेशालय शिमला में कार्यरत हैं और माता स्वास्थ्य विभाग में कार्य कर रही हैं। इन दिनों वह ढांडा शिमला में रह रहे हैं। निखिल शर्मा ने शिमला के सैंट मैरी स्कूल से जमा दो साइंस आईसीएससी में शिक्षा प्राप्त करने के उपरांत भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दिल्ली से आपटोमेटरी में स्नात्तक की उपाधि प्राप्त की। तदोपरांत केलेडोनियन विश्वविद्यालय ग्लासगो,  स्काटलैंड यूके से मास्टर इन क्लीनिकल ओपमेथोलॉजी  एंड विजन रिसर्च में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त कर अपने ही देश में सेवा की। इन्हें लगभग 52.00 लाख तीन वर्ष के लिए शिक्षण शुल्क एवं छात्रवृत्ति आधार पर ओपमेथोलॉजी एंड विजन रिसर्च में पीएचडी करने के लिए रिसर्च स्टूडेंटशिप प्रदान की है।

You might also like