पुष्कर में मंत्रणा में जुटे हैं मोहन भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत राजस्थान में अजमेर के तीर्थराज पुष्कर में स्थित माहेश्वरी सेवा सदन में संघ से जुड़े विभिन्न प्रकल्पों के साथ ‘ गुप्त ‘ मंत्रणा में जुटे है। 
श्री भागवत इसी स्थान पर सात से नौ सितंबर तक तीन दिवसीय संघ की वार्षिक समन्वय बैठक में राष्ट्रहित से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करेंगे। बैठक में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृहमंत्री अमित शाह भी शिरकत करेंगे। दोनों के आने के कार्यक्रम करीब तय हैं और वह कल छह सितंबर को पुष्कर पहुंच जाएंगे। श्री भागवत इन दिनों पुष्कर में जहां विभिन्न राष्ट्रीय मुद्दों पर मंथन कर रहे है वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मंशा के अनुरूप देश को प्लास्टिक मुक्त एवं पर्यावरण संरक्षण के साथ साथ संयुक्त परिवार जैसे नये मुद्दों पर भी राय बना रहे हैं। इन दोनों नये मुद्दों को प्रभावी तरीके से समन्वय बैठक में रखा जाएगा और उसे देशहित में सर्वव्यापक बनाने के निर्देश जारी किए जाएंगे। संघ से जुड़े सरकार्यवाह भैयाजी जोशी, सुरेश सोनी, क्षेत्रीय प्रचारक दुर्गादास, सहक्षेत्रीय प्रचारक निम्बाराम के अलावा प्रमुख रूप से विश्व हिंदू परिषद के वरिष्ठ धर्माचार्य राष्ट्रीय संत अखिलेश्वर दास महाराज पुष्कर पहुंच चुके हैं। मोहन भागवत इन सभी के साथ समन्वय बैठक के पूर्व चर्चा करके मुद्दों को अंतिम रूप देने में जुटे हैं। सूत्रों के अनुसार समन्वय बैठक में राम मंदिर का मुद्दा, कश्मीर का धारा 370 एवं 35ए हटाए जाने के बाद के हालात पर भी चर्चा की जाएगी। कुछ सूत्र देश की जनसंख्या को नियंत्रित करने पर भी चर्चा करने की बात बता रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनसंख्या वृद्धि पर इसी स्वतंत्रता दिवस को लाल किले से चिंता जाहिर की थी। समन्वय बैठक में देश के विभिन्न क्षेत्रों से आने वाले दर्जनों संगठन के करीब 200 पदाधिकारी पुष्कर पहुंच रहे हैं। संघ प्रमुख मोहन भागवत ग्यारह सितंबर को पुष्कर से जयपुर के रास्ते अहमदाबाद जाएंगे। इससे पहले उसी दिन अलवर जाने का कार्यक्रम भी है। श्री भागवत तीन सितंबर की शाम से ही पुष्कर में हैं। 

 

You might also like