फौजी मौसा ने रेता भानजी का गला

मंडी के बल्ह में वारदात; आरोपी गिरफ्तार, मासूम की हालत खतरे से बाहर

नेरचौक -पारिवारिक संबंधों की खटास और ऊपर से नशे की खुमारी एक बेकसूर बच्ची की जान पर भारी पड़ गई। बल्ह घाटी में मंगलवार रात फौजी मौसा ने दस साल की अपनी भानजी का गला रेत दिया। गनीमत यह रही कि बच्ची को समय रहते हुए नेरचौक मेडिकल पहुंचा दिया, जिससे उसकी जान बच गई, लेकिन बच्ची के गले में 23 टांके लगाने पड़े। जानकारी के अनुसार यह मामला बल्ह के बटाहण का है। पुलिस द्वारा आरोपी फौजी को गिरफ्तार कर लिया गया है। बताया जा रहा है वारदात को अंजाम देते समय आरोपी नशे में धुत था। आरोपी का पत्नी के साथ विवाद चल रहा है। बताया जा रहा है कि सेना में कार्यरत युवक की शादी तीन साल पहले हुई थी।किसी बात को लेकर पत्नी के साथ भी उसका झगड़ा चल रहा है और वह पिछले डेढ़ साल से मायके मे ही रह रही है। इसके चलते आरोपी युवक और बच्ची के परिवार मे इस विवाद के चलते बोलचाल भी बंद है। जानकारी के अनुसार आरोपी मंगलवार रात को पत्नी की बहन के घर पहुंचा। इसके बाद वह अपनी 10 वर्षीय भतीजी ईशा शर्मा से अपनी पत्नी के बारे में पूछने लगा, लेकिन बच्ची ने उससे बात करने से मना कर दिया। इस पर आरोपी ने तैश में आकर तेजधार हथियार से हमला कर उसे खेतों में फेंक दिया। बच्ची की रोने की आवाज सुनकर परिजन मौके पर पहुंचे और उन्होंने मासूम को लहूलुहान हालत में नेरचौक स्थित श्री लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कालेज पहुंचाया, जहां बच्ची का तुरंत आपरेशन किया गया। बताया जा रहा है कि आरोपी श्रीनगर के कुपवाड़ा में सेना में 4-जैक राइफल में तैनात है। मासूम के बयान के मुताबिक पुलिस ने आरोपी को मंगलवार रात को ही हिरासत में ले लिया था। उधर, बच्ची की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। पुलिस आरोपी द्वारा इस्तेमाल में लाया गया हथियार भी तलाश कर रही है। आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा-307 के तहत मामला दर्ज किया गया है। एसपी मंडी गुरदेव शर्मा ने मामले की पुष्टि की है।

You might also like