बच्चा चोर गिरोह समझकर थाने पहुंचा दिए वर्कर

गड्ढा खोदने के बाद कर रहे थे बंद; जांच में खुलासा होने पर सामने आई सच्चाई

भोरंज -क्षेत्र मंे आग की तरह फैली बच्चा चोर गिरोह की अफवाह ने एक कंपनी के कर्मचारियांे को पुलिस थाना पहुंचा दिया। कंपनी के कार्य मंे जुटे इन लोगांे पर न जाने क्यांे स्थानीय लोगांे को संदेह हो गया। कंपनी के कर्मचारी गड्ढा खोदने के बाद उसे बंद कर रहे थे। गड्ढे की भराई करता देख लोगांे को इन पर शक हो गया। फिर क्या था, ग्रामीणांे ने पंचायत से जब इन लोगांे के बारे मंे पूछा, तो कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला। इस पर लोग इन्हंे पुलिस थाना भोरंज ले गए। हालांकि ये लोग स्वयं को ओएनजीसी कंपनी का कर्मचारी बताते रहे, लेकिन स्थानीय ग्रामीणांे ने इनकी एक नहीं सुनी। हालांकि तफ्तीश के बाद यह लोग कंपनी के कर्मचारी निकले और कंपनी का ही काम कर रहे थे।जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत धिरड़ में सोमवार को मझौ ग्राम के लोगों ने कुछ प्रवासियों को जमीन पर खड्डा खोद कर दोबारा बंद करते हुए पाया तो ग्रामीण घबरा गए। लोग सोशल मीडिया पर फैली बच्चा चोर गिरोह की अफवाह से दहशत में हैं इसी के चलते भोरंज की कुछ पंचायतों ने तो फेरीवालों, प्रवासियों, भिखारियों तक को पाबंदी लगा दी है। जब मझौ ग्राम के लोगों ने कुछ प्रवासियों को जमीन पर खड्डा खोद कर दोबारा बंद करते हुए पाया, तो इन्हंे बच्चा चोर गिरोह से जुड़ा समझ लिया। इस बारे पंचायत उपप्रधान विक्रम सिंह ने बताया कि उन्हें ग्रामीणों से सूचना मिली थी और सबने मिलकर उन्हें पुलिस के हवाले किया है। सभी ग्रामीणों को हिदायत दी है कि कोई भी संदिग्ध या फेरी वाला पंचायत की परमिशन के बिना पंचायत में नहीं घूमेगा। उधर  थाना प्रभारी भोरंज एसएचओ कुलबंत सिंह ने बताया कि आजकल ग्रामीण बच्चा चोर गिरोह की अफवाह से घबरा जाते हैं। इसलिए ग्रामीणों ने उन्हें पुलिस के हवाले किया जब उनसे तफतीश की गई, तो वे ओएनजीसी कंपनी के ही निकले।

You might also like