बिलासपुर शहर की महिला को डेंगू

बुखार होने पर उपचार के लिए जिला अस्पताल पहुंची थी मरीज, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट

बिलासपुर -शहर की एक महिला में डेंगू की पुष्टि होने से हड़कंप मच गया। महिला (37) को डेंगू होने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने घर के सदस्यों के स्वास्थ्य की जांच की है। टीम ने तुरंत महिला के मोहल्ले के घरों में एंटी लारवा दवा का छिड़काव कराया। हालांकि महिला को उपचार के बाद घर भेज दिया गया है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी बिलासपुर डा. प्रकाश चंद दरोच ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि शुक्रवार को इस महिला में डेंगू होने की पुष्टि हुई है। सीएमओ ने बताया कि फॉगिंग के अलावा संबंधित क्षेत्र की एरिया वर्कर से इसकी डेली रिपोर्ट भी ली जा रही है। महिला के परिवार में किसी सदस्य में डेंगू के लक्षण नहीं मिले हैं। सीएमओ ने बताया कि रौड़ा सेक्टर की यह महिला क्षेत्रीय अस्पताल में लगातार आ रहे बुखार की जांच करवाने आई थी। बुखार आने से पहले वह सोलन भी गई थी। कई दिनों के निजी क्लीनिक से लिए जा रहे उपचार के बाद भी हालत में सुधार नहीं होने पर महिला बिलासपुर अस्पताल पंहुची। यहां चिकित्सक द्वारा की गई जांच में महिला में डेंगू के लक्षण पाए गए। जब टेस्ट करवाया गया तो इसमें डेंगू होने की पुष्टि हुई। बता दें कि बिलासपुर शहर की यह पहली महिला है, जिसमें इस सीजन में डेंगू होने की पुष्टि हुई है। वहीं सीएमओ डा. प्रकाश ने जिला भर में डेंगू को लेकर अलर्ट जारी कर दिया है।

डेंगू है खतरनाक

सीएमओ प्रकाश चंद दरोच ने बताया कि डेंगू एक बेहद खतरनाक रोग है, जो संक्रमित मादा मच्छर के काटने से होता है। एक संक्रमित मच्छर कई लोगों को डेंगू के वायरस से संक्रमित कर सकता है। वायरस का असर बढ़ने पर प्लेटलेट्स में कमी आती है और नाक, कान, मुंह  या अन्य अंगों से रक्तस्राव भी हो सकता है। यह मच्छर दिन के समय काटता है।

You might also like