भारत में चांद से नहीं आते आतंकी

जम्मू-कश्मीर पर झूठ फैला रहे पाकिस्तान को यूरोप ने भी दिखाया आईना

स्ट्रासबर्ग (फ्रांस) – कश्मीर पर दुष्प्रचार कर अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बनाने की कोशिशों में जुटे पाकिस्तान को यूरोपीय संसद से तगड़ा झटका लगा है। यूरोप की संसद में कई सांसदों ने एक सुर में पाकिस्तान की तीखी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि हमें भारत का समर्थन करना चाहिए क्योंकि पाकिस्तान में आतंकियों को संरक्षण मिलता है और वे पड़ोसी देश में हमले करते हैं। आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म किए जाने के बाद पाक इसे अतंरराष्ट्रीय मंचों पर उठा रहा है, लेकिन उसका प्रॉपेगैंडा हर बार नाकाम हो रहा है। यूरोपीय संसद ने 11 साल में पहली बार कश्मीर के मुद्दे पर चर्चा की और खुले तौर पर भारत का समर्थन किया। इस दौरान आतंकवाद पर पाकिस्तान की निंदा भी की गई। संसद में चर्चा के दौरान पोलैंड के नेता और ईयू सांसद रिजार्ड जार्नेकी ने कहा कि भारत दुनिया का सबसे महान लोकतंत्र है। हमें भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य में होने वाली आतंकी घटनाओं पर गौर करने की जरूरत है। उन्होंने साफ कहा कि भारत में ये आतंकी चांद से नहीं आते हैं। वे पड़ोसी देश (पाकिस्तान) से ही आ रहे हैं। ऐसे में हमें भारत को समर्थन देना चाहिए। उधर, इटली के नेता और ईयू सांसद फुलवियो मार्तुसिलो ने कहा कि पाकिस्तान परमाणु हथियारों का इस्तेमाल करने की धमकी दे रहा है। उन्होंने स्थानीय हमलों का जिक्र करते हुए कहा कि पाकिस्तान ही है, जहां आतंकी साजिश रचकर यूरोप में हमलों को अंजाम देते हैं। आखिर में ईयू संसद ने कहा कि कश्मीर के मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान को बात करनी चाहिए और इसका शांतिपूर्ण हल निकालने की कोशिश की जानी चाहिए।

इमरान का प्रॉपेगैंडा, कर्फ्यू रहने तक बात नहीं

नई दिल्ली – पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान कश्मीर पर दुनियाभर से मुंह की खाने के बाद भी अपने प्रॉपेगैंडा से बाज नहीं आ रहे हैं। उन्होंने अब भी कश्मीर में कर्फ्यू की बात करते हुए भारत के साथ द्विपक्षीय बातचीत की संभावना खारिज कर दी है। इमरान ने कहा कि कश्मीर में कर्फ्यू उठने तक भारत से द्विपक्षीय बातचीत नहीं करेंगे। हालांकि, हकीकत यह है कि अब जम्मू-कश्मीर के किसी भी भाग में कर्फ्यू लागू नहीं है। वहां आर्टिकल 370 हटाने के बाद कुछ इलाकों में बेहद कम दिनों के लिए पाबंदियां लगाई गई थीं, जिन्हें भी लगभग उठा लिया गया है। अभी मात्र आठ थाना क्षेत्रों में सिर्फ धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू है। गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को ही एक निजी न्यूज चैनल के कार्यक्रम में इसकी जानकारी दी है। शाह ने कहा कि वहां अब पाबंदी की बात गलती है। वहां सभी 196 में से सिर्फ आठ पुलिस स्टेशन में धारा 144 लागू है, कर्फ्यू नहीं।

You might also like