विजिलेंस की कार्यप्रणाली पर सवाल

चरस तस्करी मामले में फिर से जांच की मांग, एसपी विजिलेंस को सौंपा ज्ञापन

मंडी -चरस तस्करी के मामले में फिर से जांच करने की मांग को लेकर प्रतिनिधिमंडल ने पुलिस अधीक्षक राज्य सतर्कता एवं एंटी करप्शन ब्यूरो को ज्ञापन दिया है। प्रतिनिधिमंडल ने पुलिस के अधिकारियों के खिलाफ  दी गई शिकायत पर भी कार्रवाई करने की मांग की है। शुक्रवार को बल्ह तहसील के मंदिर टांडा गांव निवासी पूनम ने शिकायत पत्र देते हुए कहा कि उसके पति हेम राज और देवर नारायण दास को पुलिस ने 12 जुलाई, 2019 को एडीपीएस के एक मामले में गिरफ्तार किया है। शिकायतकर्ता के मुताबिक इस मामले में पुलिस ने 3.934 किलो चरस को एक कार नंबर (पीबी 02एम 8354) से निकाला था और इसे हेम राज और नारायण दास द्वारा तस्करी करना बताया था। शिकायतकर्ता के अनुसार पुलिस ने उक्त दोनों आरोपियों को गल्त तरीके से रोक कर उनके साथ मारपीट की थी, जिसकी शिकायत दो सितंबर, 2019 को की गई थी।, लेकिन इस शिकायत पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। शिकायतकर्ता के अनुसार एनडीपीएस के मामले की तहकीकात कर रहे अन्वेषण अधिकारी आरोपी हेम राज की स्कूटी की मांग शिकायतकर्ता से कर रहा है। शिकायतकर्ता और प्रतिनिधिमंडल ने मांग की है कि आरोपियों द्वारा पुलिस अधिकारियों के खिलाफ दी गई शिकायत की जांच करके आरोपी अधिकारियों के खिलाफ  उचित कार्यवाई अम्ल में लाई जाए। इसके अलावा अन्वेषण अधिकारी द्वारा स्कूटी का कब्जा लेने पर भी रोक लगाई जाए। प्रतिनिधि मंडल में कृष्ण चंद, राजकुमार, हिमाचली देवी, आशा देवी, बिहारी लाल, विक्रांत नाइक, दिनेश कुमार, दीप कुमार, कपिल, मुरारी लाल, मोहित कुमार और अन्य लोग शामिल रहे।

You might also like