संजौली कालेज में वैज्ञानिक दृष्टिकोण पर सजी कार्यशाला

शिमला –राजधानी शिमला स्थित उत्कृष्ट शिक्षा केन्द्र राजकीय महाविद्यालय संजौली में विज्ञान और वैज्ञानिक दृष्टिकोण के महत्व पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। महाविद्यालय की साइंटिफिक एंड पॉलिमर सोसायटी द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में लुधियाना से आमंत्रित प्रोफेसर वरुण कुमार ने मुख्य वक्ता के रूप में शिरकत की। अपने उद्भोदन में डॉ वरुण ने कहा कि आज के समय में सम्पूर्ण मानव जाति के लिए वैज्ञानिक दृष्टिकोण अपरिहार्य है, इसलिए सभी को अपने हरेक क्रियाकलाप के मूल में समाहित विज्ञान को पहचानने की दृष्टि विकसित करनी चाहिए, ना कि उन्हें किसी अज्ञात अथवा मनगढ़ंत विचार को समर्पित कर अंधविश्वास नहीं बढ़ाना चाहिए। उन्होंने भारतीय समाज की रोज़मर्रा की अनेक घटनाओं और कार्य शैलियों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण की अनदेखी किए जाने के अनेकों उदाहरण प्रस्तुत कर श्रोताओं को आत्मचिंतन व स्वावलोकन करने पर मजबूर कर दिया। महाविद्यालय सभागार में आयोजित लगभग तीन घंटे चले इस कार्यक्रम में लगभग पांच सौ विद्यार्थियों ने भाग लिया। डा. संदीप चौहान ने कहा कि विद्यार्थियों की भारी संख्या में इस कार्यक्रम में भागीदारी और अनेकों प्रतिभागियों द्वारा विशेषज्ञ से सवाल पूछे जाने अयोजन की सफलता स्वयं बयान करता है। बता दें कि सभी श्रोताओं, विशेषकर विद्यार्थियों ने इस कार्यशाला का भरपूर आनंद लिया और आयोजकों से ऐसे ज्ञानवर्धक व प्रेरणादायक कार्यक्रम भविष्य में भी बार बार करवाने का आह्वान किया।

You might also like