सायर उत्सव…आज देवालयों में बंटेगी जूब

जिला भर में होंगे कार्यक्रम; स्वादिष्ट पकवानों से महकेंगी देवभूमि की रसोइयां, एक-दूसरे को जूब और अखरोट बांटकर मनाएंगे त्योहार

भुंतर -सायरी संक्रंाति को पूरे जिला में लोगों ने एक-दूसरे को जूब बांटकर और अखरोट खिलाकर मंगलवार को मनाया जाएगा। जिला भर में इस मौके पर ग्रामीण मेलों का आयोजन किया जाएगा। जिला की रसोइयों में भी अनेक प्रकार के स्वादिष्ट पकवान चखने को मिलेंगे। जिला के दियार गड़सा, मणीकर्ण, सैंज, मनाली के साथ बंजार क्षेत्र में पूरी धूमधाम और पारंपरिक तरीके से लोगों द्वारा मनाया जाता है। लोग पहले अराध्य देवी -देवताओं को जूब भेंट कर उसके बाद अपने बड़ों को भी जूब बंाटकर आशीर्वाद लेंगे। इस दौरान जिला विवाहित बेटियां भी बाबुल के घर जाकर अपने माता-पिता को जूब देनी नहीं भूलती। देव समाज के अनुसार भाद्रपद माह जिसे काले माह के नाम से पुकारा जाता है उसकी समाप्ति के बाद जूब बांटी जाती है क्योंकि इस माह में सबसे ज्यादा आधिव्याधियां होने की आशंका रहती है। जिला के अनेक स्थानों पर जहां सक्रांति को जूब बांटी जाती है तो दियार, गड़सा, मणीकर्ण, लगघाटी सहित अन्य इलाकों में अगले पांच से सात दिनों तक यह जूब बांटी जाएगी।

शौंढाधार में होगा देवता जमदग्नि ऋषि व माता मंडासना का देवमिलन

इस मौके पर देवता जमदग्नि ऋषि व माता मंडासना अपने पारंपरिक स्थान शौंढाधार में अपने हारियानांे के साथ जाएंगे और देवमिलन की प्रक्रिया को पूरा किया जाएगा। देवता के कारकूनों खेम सिंह, केहर सिंह, हेम राज आदि ने बताया कि हर साल कार्यक्रम मनाया जाता है।

You might also like