सायर मेले में ‘लड़का आंख मारे’

थल्टूखोड़ की दूसरी सांस्कृतिक संध्या में लोक कलाकार रमेश ठाकुर ने बांधा समां

पद्धर-थल्टूखोड़ सायर मेले की दूसरी संध्या कुल्लू के लोक कलाकार रमेश ठाकुर ने जमकर लूटी। रमेश ठाकुर की पहाड़ी नाटियों पर महिला और पुरुष जी भरकर थिरके। दूसरी संध्या में माइंड आपरेशन अकादमी निदेशक राम प्रकाश ठाकुर ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। उन्होंने युवाओं का मार्गदर्शन करते हुए सकारात्मक ऊर्जा के साथ भविष्य के लिए कड़ी मेहनत करने का आह्वान किया। उन्होंने ग्रामीणों को सायर मेले की बधाई देते हुए आराध्य देव पशाकोट से क्षेत्र की सुख, समृद्धि और खुशहाली की कामना की। वहीं मेले के सफल आयोजन को लेकर अपनी ओर से मेला समिति को 21 हजार रुपए की नकद राशि भेंट की। देव पशाकोट, माता फुंगनी और माता नौनी भगवती को 21-2100 रुपए की राशि भेंट की। चार महिला मंडलों के लिए 11-1100 रुपए की प्रोत्साहन राशि दी। गायक रमेश ठाकुर ने संध्या की शुरुआत म्हारे देवा पशाकोटा तेरी जय जयकारा हो गीत से की। उसके बाद पहाड़ी नॉन स्टॉप पाटु वालिए भानजिये, भावां रुपीए हो जांगड़े सलू मेरी, धींगा धींगये, लाल लाल सयो, रा दाना, हामें लागे बोलो तेरी ख़ातिराए धारा पांदे लगा कुकड़ी मामा जिंदू री खेला, नीमा डोलमा, शाबाशे सौनिये तेरी जानी री,  साहिबा रा लड़का आदि नाटी प्रस्तुत कर दर्शकों को जमकर नचाया। उसके बाद फिल्मी गीत तुम तो ठहरे परदेशी, परदेशिया सब कहते हैं तूने मेरा दिल ले लिया, बड़ी दूर से आए हैं प्यार का तोहफा लाए हैं, मैं जट यमला पगला दीवाना, देखा ना हाय रे सोचा ना हाय रे प्रस्तुत कर वाहवाही लूटी। रमेश ठाकुर के पंजाबी नॉन स्टॉप रांझा मियां छड़ दो यारीए मुंडा लंदन तो बख्दा,  बोलो तारा रा रा रा, लठे दी चादर उते स्लेटिया रंग माहिया, आंख मारे ओ लड़का आंख मारे दिल धड़का, ओए ओए नी कुडि़यां शहर दियां प्रस्तुति पर युवाओं सहित महिलाएं भी जमकर थिरकीं। इस अवसर पर मेला कमेटी अध्यक्ष धर्म सिंह, नरेश कुमार, शेर सिंह, गंगा राम, राजमल, रोशन लाल, ओम प्रकाश और मान सिंह पगलानी सहित अन्य मौजूद रहे।

You might also like