सुधीर ने युवा कांग्रेस के हालात पर उठाए सवाल

धर्मशाला – कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव एवं पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा ने अपनी ही पार्टी के युवा विंग की गतिविधियों पर सवाल खड़े कर दिए हैं। उनका कहना है कि युवा कांग्रेस संगठन लगातार पीछे होता जा रहा है, जो कि चिंता का विषय है और इसके पीछे धरातल पर काम करने वाले युवा कार्यकर्ताओं की अनदेखी है। उनका कहना है कि वर्तमान में प्रदेश युवा कांग्रेस को अभी तक स्थायी अध्यक्ष का न मिलना इसका उदाहरण है। वर्तमान व्यवस्था में कार्यकारी अध्यक्ष बिना कांग्रेसजनों को विश्वास में लिए नियुक्तियां एवं कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं, जिसका कांग्रेसियों को पता तक नहीं होता। बाहर से आए हुए प्रभारी पर्यटक की तरह मौजमस्ती कर लौट जाते हैं। सुधीर शर्मा का कहना है कि कभी कांग्रेस को प्रदेश भर में मजबूत बनाने वाली युवा कांग्रेस आज खुद ही मजबूत नजर नहीं आ रही है। कई अन्य नेता भी युवा कांग्रेस की कार्यप्रणाली को लेकर अंगुली उठा चुके हैं। युवा कांग्रेस में पदाधिकारियों की अनदेखी तथा बिना जांचे परखे सौंपे जा रहे नेतृत्व पर दिल्ली से आने वाले प्रभारियों पर भी सवालिया निशान लगता है। वर्तमान में युवा कांग्रेस की कार्यप्रणाली को लेकर कांग्रेस के कई नेता सवाल उठा रहे हैं। युवा कांग्रेस के कमजोर होने का सबसे बड़ा कारण इसमें सिफारिश से आने वाले कुछ पदाधिकारियों को माना जा रहा है, जबकि कुछ सालों से मजबूत युवाओं को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। ऐसे ही अगर अब भी युवा कांग्रेस में कोई बदलाव नहीं किया गया तो आने वाले समय में यह कांग्रेस के लिए काफी नुकसानदायक सिद्ध होगा और युवा कांग्रेस का यह रवैया उसे, ऐसी जगह ले जाएगा, जहां से उठ पाना नामुमकिन होगा।

मनमर्जी से चलाया जा रहा काम

युवा कांग्रेस संसदीय क्षेत्र के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष सुनील शर्मा का कहना है कि मौजूदा दौर में हालात ऐसे हैं कि युवा कांग्रेस का जो भी कार्यक्रम होता है, उन्हें सूचना तक नहीं दी जाती है। मनमर्जी से काम चल रहा है, जिससे युवा विंग कमजोर हो रहा है। युवा कांग्रेस के चुनाव में तीसरे नंबर पर रहने वाले युवा नेता गोल्डी चौधरी का कहना है कि युवा कांग्रेस के सस्पेंड कार्यकर्ताओं को प्रोमोट किया जा रहा है, जबकि जमीन में काम करने वाले लोगों को इग्नोर किया जा रहा है।

You might also like