स्किन स्पेशलिस्ट नहीं, कहां करवाएं इलाज

बिलासपुर में चार माह से पद खाली, मरीजों का करना पड़ रहा दिक्कतों का सामना, प्रशासन से लगाई गुहार

बिलासपुर -क्षेत्रीय अस्पताल बिलासपुर में स्किन ओपीडी की सेवाएं ठप होने से मरीजों का मर्ज बढ़ गया है। कोई भी स्किन स्पेशलिस्ट न होने से जिला के मरीजों को स्किन संबंधी उपचार के लिए हमीरपुर मेडिकल कालेज का रुख करना पड़ रहा है। जिला के सबसे बड़ अस्पताल में बीते करीब चार माह से स्किन ओपीडी बंद पड़ी हुई हैं। यहां तैनात एकमात्र स्किन स्पेशलिस्ट का तबादला होने के बाद से स्वास्थ्य विभाग द्वारा किसी और विशेषज्ञ की तैनाती नहीं की जा सकी है। आलम यह है कि असपताल की स्किन ओपीडी के बंद रहने से मरीजों को खासा दिक्कतें झेलनी पड़ रही है। ओपीडी के बंद रहने से मरीजों को दिनभर काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जांच के लिए सुबह अस्पताल आने वाले मरीजों को जरनल व दूसरी ओपीडी का रुख कर रहे हैं। यह अव्यवस्था अस्पताल में पिछले कुछ महीनों से लगातार पेश आ रही है। क्षेत्रीय अस्पताल बिलासपुर के एसएमओ डा. सतीश शर्मा ने बताया कि स्किन स्पेशलिस्ट का तबादला होने व इनके चले जाने के बाद से अभी तक किसी की नियुक्ति नहीं हुई है। चिकित्सकों के खाली चल रहे पदों के बारे उच्चाधिकारियों को भी अवगत करवाया दिया गया है। बता दें क्षेत्रीय अस्पताल की स्किन ओपीडी में रोजाना 40 से 50 मरीज इलाज के लिए पहुंचते है। इससे पहले यहां स्किन ओपीडी में चिकित्सक के तैनात होने से मरीजों को काफी सुविधा मिलती रही है। मरीजों को अपनी बारी के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ता, लेकिन अब यहां कोई भी चिकित्सक न होने से स्किन ओपीडी प्रभावित हो रही है। बहरहाल स्किन ओपीडी के ठप रहने से स्वास्थ्य सेवाएं काफी प्रभावित हुई हैं। आलम यह हैा कि अस्पताल में जांच के लिए पहुंचे मरीजों को बैरंग ही लौटना पड़ता है, तो कुछ आपातकालीन कक्ष व दूसरी ओपीडी में बैठे चिकित्सकों को अपना दुखड़ा सुना रहे है। क्षेत्रीय अस्पताल बिलासपुर का कद यूं तो जिला भर में काफी बड़ा है, लेकिन स्वास्थ्य सुविधाओं के नाम पर छोटा पड़ता जा रहा है। तीन जिलों की आबादी को मिलने वाली सुविधाओं पर ग्रहण लगता जा रहा है। अस्पताल में स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित होने से मरीजों को असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है। इसका खामियाजा अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों को भुगतना पड़ रहा है। बहरहाल अगर जल्द स्वास्थ्य विभाग द्वारा यहां किसी चर्म रोग विशेषज्ञ को नहीं भेजा गया, तो समस्या आगामी दिनों में और गंभीर होने वाली है। वहीं, क्षेत्रीय अस्पताल, बिलासपुर डा. सतीश शर्मा, एसएमओ ने कहा कि स्किन स्पेशलिस्ट का तबादला होने के बाद से अस्पताल में यह पद करीब चार माह खाली चल रहा है। अस्पताल में चिकित्सकों की कमी के बारे में लगातार उच्च अधिकारियों को अवगत करवाया जा रहा है।

You might also like