आंकड़ों के फेर ने उलझाया

ऊपरी क्षेत्र और निचली बैल्ट पर असमंजस में कार्यकर्ता

धर्मशाला   – विधानसभा उपचुनाव संपन्न होने के बाद प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम में कैद हो गया है। मंगलवार को प्रत्याशी व उनके समर्थक दिन भर अपनी अपनी जीत को लेकर जमा गुना करते रहे। बूथ वाइज डिटेल की लिस्ट हाथों में लेकर प्रत्याशी व कार्यकर्ता प्रत्येक बूथ पर हुए कुल मतदान को आधार बनाकर अपनी पार्टी व अपने प्रत्याशी को वोट देकर उसकी सूची तैयार कर रहे थे। भाजपा कांग्रेस के अलावा इस वार धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र में आजाद प्रत्याशी के पक्ष में माहौल बनने के बाद लोग मतों को तीन भागों में बांट रहे थे। इसमें  विजय करण, विशाल नैहरिया और राकेश चौधरी, पुनीष पाधा, निशा कटोच, डा. मनोहर लाल धीमान और सुभाष चंद शुक्ला के हिस्से में भी अलग अलग स्थानों से अलग संख्या वोटों की लग रही थी। निचले क्षेत्रों में हुई बंपर बोटिंग और पिछले विधानसभा चुनावों के अपेक्षा करीब दस फीसदी मतदान में आई कमी को भी सुबह से लेकर शाम तक राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता कई मायने निकालते रहे। भाजपा कार्यकर्ता मंगलवार को अपने चुनाव कार्यालय में सारे समीकरणों पर चर्चा करते रहे तो कांग्रेस कार्यकर्ता व विजय इंद्र करण के समर्थकों को भी मंगलवार को उनके पास दिन भर जमाबड़ा लगा रहा।

मतगणना की तैयारी

ईवीएम को धर्मशाला कालेज के प्रयास भवन में कड़े सुरक्षा प्रबंधों के बीच रखा गया है। कॉलेज प्रयास भवन के बाहर तीन तरह का पहला लगाया गया है, जिसमें जिला व प्रदेश पुलिस के अलावा पैरामिलिट्री फोर्स भी तैनात की गई है। कड़े सुरक्षा प्रबंधों के बीच चुनाव अधिकारी 24 तारीख सुबह होने वाली मतगणना की तैयारियां कर रहे हैं।

You might also like