आने से पहले होगा ‘राजा-रानी’ का मेडिकल

हमीरपुर – गोपालपुर चिडि़याघर के लिए शेर दंपत्ति शक्करबॉग जूलॉजिकल गार्डन से लाया जाएगा। वाइल्ड लाइफ हमीरपुर की टीम शेर दंपत्ति का स्वास्थ्य जांचने के लिए गुजरात जाने की तैयारी कर रही है। शेर दंपत्ति को लाने से पहले इस जंगली जानवर का व्यवहार देखा जाएगा। कहीं, यह ज्यादा खूंखार या फिर किसी बीमारी से ग्रसित तो नहीं है। पूरी तरह स्वस्थ व शांत व्यवहार की परख के बाद ही इसे गोपालपुर चिडि़याघर लाने की प्रक्रिया शुरू होगी। टीम में वेटरनरी डाक्टर व जू-बायोलॉजिस्ट को शामिल किया गया है। आगामी सप्ताह तक टीम गुजरात के लिए रवाना हो जाएगा। सूत्रों की माने तो इसी माह के अंत तक या फिर नवंबर के पहले सप्ताह में शेर दंपत्ति गोपालपुर पहुंच जाएगा। इसे गुजरात से लाने की व्यवस्था की जा रही है। गुजरात से शेर दंपत्ति लाया जाएगा, जबकि भालू दंपत्ति को गुजरात भेजा जाएगा। पिछले काफी समय से जंगल का राजा गोपालपुर चिडि़याघर में देखने को नहीं मिल रहा है। वर्ष 2016 में अंतिम बार शेर को चिडि़याघर में देखा गया था। अब गुजरात के शक्करबॉग जूलॉजिकल गार्डन से शेर दंपत्ति को लाने की कवायद शुरू हो गई है। इसी कड़ी में हमीरपुर वाइल्ड लाइफ विभाग से जू-बायोलॉजिस्ट व वैटरिनरी विभाग से डाक्टर को गुजरात भेजा जा रहा है। विभाग की मानें तो अगर कहीं शेर दंपत्ति खूंखार हुआ तो इसे लाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है, क्योंकि सड़क मार्ग से ही शेर दंपत्ति को गुजरात से गोपालपुर चिडि़याघर पहुंचाया जाएगा। गुजरात से शेर लाने के लिए एक लंबा सफर तय करना होगा। यदि कहीं शेर दंपत्ति बीमार हुआ तो वह इतना लंबा सफर तय नहीं कर पाएगा। हालांकि गोपालपुर में पहुंचने के उपरांत भी उसका स्वास्थ्य जांचा जाएगा। अगर सफर की वजह से कोई दिक्कत हुइ, तो जरूरत अनुसार उपचार किया जाएगा। फिलहाल आगामी सप्ताह तक टीम गुजरात जाकर शेर दंपत्ति को लेकर स्थिति स्पष्ट करेगी।

You might also like