…और ईवीएम में कैद हुआ पांच का भाग्य

पच्छाद में शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हुए विधानसभा उपचुनाव; कड़े सुरक्षा इंतजामों के बीच 113 केंद्रों में हुई वोटिंग, 452 कर्मचारियों ने दी ड्यूटी

नाहन –जिला सिरमौर के पच्छाद विधानभा के उपचुनाव सोमवार को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हो गए। शाम पांच बजे तक करीब 72.85 प्रतिशत मतदान की सूचना जिला प्रशासन तक पहुंच गई थी, जबकि 25 मतदान केंद्रों पर देर शाम तक मतदान लंबी-लंबी कतारों के कारण जारी था। पच्छाद विधानसभा क्षेत्र का मतदान निर्धारित समय सुबह आठ बजे आरंभ हुआ। शुरुआती दो घंटे में मतदान बेहद ही धीमा रहा। जिला प्रशासन ने शांतिपूर्ण तरीके से मतदान संपन्न करवाने की तमाम व्यवस्था की हुई थी। पुलिस चप्पे-चप्पे पर तैनात की गई थी तथा तमाम मतदान केंद्रों पर भी बाकायदा सुरक्षा कर्मी तैनात किए गए थे। पांच बजे तक पच्छाद विधानसभा क्षेत्र के कुल 113 मतदान केंद्रों पर चुनाव की प्रक्रिया लगभग पूरी हो गई थी तथा गिने-चुने करीब दो दर्जन मतदान केंद्रों जहां मतदाताओं की कतारें लगी थी, वहां मतदान देरी तक चला। बहरहाल, पच्छाद उपचुनाव में अब पांच उम्मीदवारों का भविष्य ईवीएम मशीनों में बंद हो गया है। पच्छाद उपचुनाव के दौरान मतदान केंद्र मानगढ़, कोटला बरोग व मझगांव में वीवीपैट मशीनों में कुछ तकनीकी खराबी सामने आई, जिसे तुरंत बदल दिया गया। हिमाचल प्रदेश कृषि एवं विपणन बोर्ड के चेयरमैन बलदेव भंडारी ने अपने परिवार सहित दुरंग मतदान केंद्र पर वोट डाला। तीन बजे तक के आंकड़ों के अनुसार 20,843 महिला मतदाता वोट डाल चुके थे, जबकि 23,050 पुरुष मतदाताओं ने दोपहर तीन बजे तक वोट डाल दिए थे। इसके अलावा 90 साल की कृष्णा ने भी अपनी भागीदारी दी। 95 वर्षीय भुल्लर ने शावगा स्कूल में बनाए गए मतदान केंद्र पर वोट डाला। पच्छाद विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव में कुल 74485 मतदाता हैं, जिनमें 38296 पुरुष मतदाता तथा 36189 महिला मतदाता हैं। कुल 113 मतदान केंद्रों में से छह अतिसंवेदनशील तथा सात संवेदनशील मतदान केंद्र, जबकि 100 सामान्य मतदान केंद्र बनाए गए थे। 23 मतदान केंद्रों की वेब कास्टिंग की गई। चुनाव प्रक्रिया शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न करवाने के लिए 452 कर्मचारियों ने योगदान दिया, जिनमें 113 पीठासीन अधिकारी, 226 पोलिंग ऑफिसर, 13 सेक्टर आफिसर तथा तीन सेक्टर मजिस्ट्रेट ड्यूटी पर तैनात किए गए थे। चुनाव प्रक्रिया के लिए 227 कंट्रोल यूनिट तथा 230 बैलेट यूनिट के अलावा 197 वीवीपैट मशीनें उपलब्ध करवाई गई। पच्छाद के गड़ासर बूथ पर भाजपा व कांग्रेस कार्यकर्ताओं में कुछ पल के लिए तीखी नोकझोंक भी हुई, जिसका कारण भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा पोलिंग बूथ के समीप डम्मी ईवीएम मशीन का इस्तेमाल बताया जा रहा है। नैनाटिक्कर क्षेत्र में पांच बजे तक 70 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया, जबकि राजगढ़ व सराहां क्षेत्र में मतदान में मतदाताओं ने खूब रुचि दिखाई।

परिवार के साथ मतदान के लिए पहुंचे प्रत्याशी

कांग्रेस के उम्मीदवार गंगूराम मुसाफिर ने अपने पैतृक गांव डिलमन में परिवार के साथ मतदान किया, जबकि भाजपा की उम्मीदवार रीना कश्यप ने नेरी कोटली पोलिंग बूथ पर वोट डाले। आजाद उम्मीदवार दयाल प्यारी ने अपने मतदान केंद्र देयोल टिकरी में वोट डालकर अपना भाग्य आजमाया। इसके अलावा दो अन्य आजाद उम्मीदवार सुरेंद्र कुमार छिंटा व पवन कुमार ने भी अपने-अपने पोलिंग बूथ पर वोट डाले। दो शिकायतेंः डम्मी ईवीएम-महिला को

थप्पड़ मारने की धमकी

पच्छाद विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतें चुनाव आयोग को भेजी हैं। डम्मी ईवीएम के इस्तेमाल तथा एक मतदान केंद्र पर महिला मतदाता को थप्पड़ मारने की धमकी की शिकायत मतदान के दौरान चुनाव आयोग को भेजी गई।

केंद्रों का जायजा लेने निकले कैंडीडेट

कांग्रेस प्रत्याशी गंगूराम मुसाफिर ने पांचों उम्मीदवारों में सर्वप्रथम मतदान का प्रयोग किया। प्रत्याशियों ने मतदान केंद्रों का भी जायजा लिया। सहायक निर्वाचन अधिकारी व एसडीएम राजगढ़ नरेश वर्मा ने चुनाव प्रक्रिया शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न होने की पुष्टि की तथा कहा कि गड़ासर पोलिंग बूथ की शिकायत मिली है। उन्होंने कहा कि कुछ केंद्रों पर वीवीपैट की तकनीकी खामी सामने आई थी, जिसे तुरंत दुरुस्त करवा दिया गया था।

You might also like