कमल दुमछेड़ी ने महेंद्र पलवाना को किया चित्त, जीती 2.51 लाख की माली

गगरेट –दि विशाल हिमाचल गुड्स ट्रांसपोर्ट सोसायटी गगरेट द्वारा अंबोटा के दंगल मैदान में करवाए जाने वाले सालाना दंगल मेले में आए पहलवानों पर खूब धन वर्षा हुई। यह दंगल मेला प्रदेश में किस कद्र मशहूर होने लगा है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दंगल मेले में पहलवानों की जोर आजमाइश को देखने के लिए जिला कांगड़ा के लोग भी बड़ी तादाद में पहुंचे हुए थे। दंगल मेले की बड़ी माली का दो लाख इकयावन हजार रुपए का खिताबी मुकाबला प्रसिद्ध पहलवान कमल दुमछेड़ी व हरियाणा के नामी पहलवान महेंद्र के बीच हुआ और रोचक मुकाबले में कमल दुमछेड़ी ने बेहतरीन दांव-पेंच से खिताबी मुकाबला अपने नाम किया। हिमुडा के वाइस चेयरमैन प्रवीण शर्मा ने इस दंगल मेले में बतौर मुख्यातिथि शिरकत करते हुए विजेता व उपविजेता खिलाडि़यों को पुरस्कृत किया। दि विशाल हिमाचल गुड्स ट्रांसपोर्ट सोसायटी द्वारा करवाया जाने वाला यह सालाना दंगल मेला धीरे-धीरे ख्याति प्राप्त करने लगा है। इस दंगल मेले में शिरकत करना पहलवान भी अपनी शान समझते हैं। इस प्रकार इस दंगल मेले में पहलवानों पर धन वर्षा होती है उसके चलते अन्य राज्यों के नामी पहलवान भी इस दंगल मेले का इंतजार करते हैं। इस बार भी दिल्ली, हरियाणा व पंजाब सहित दूर-दूर से पहलवान दंगल मेले की शान बढ़ाने के लिए पहुंचे हुए थे। अहम बात यह थी कि दिल्ली व हरियाणा की महिला पहलवानों ने भी इस दंगल मेले में शिरकत कर अपने हैरतअंगेज दांव-पेंच से दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। दंगल मेले में ठाकुर हरदीप सिंह, पम्मा ठाकुर व विक्की ने मैच रैफरी की भूमिका अदा की। दंगल मेले के अंतिम दिन पहलवानों का मेला ही उमड़ आया और सारे मुकाबले खत्म करवाते-करवाते खिताबी मुकाबला रात साढ़े नौ बजे जाकर खत्म हुआ। दो लाख इकयावन हजार रुपए का खिताबी मुकाबला कमल दुमछेड़ी व महेंद्र हरियाणा के बीच हुआ। हालांकि महेंद्र हरियाणा ने कई बेहतरीन दांव-पेंच का इस्तेमाल कर खिताबी मुकाबला अपने नाम करने की कोशिश की, लेकिन कमल दुमछेड़ी के एक दांव को वह समझ नहीं पाए और चित हो गए। वहीं, 71 हजार रुपए का खिताबी मुकाबला पप्पी लंबा नाला व सुदाम होशियारपुर के बीच हुआ। इसमें पप्पी लंबानाला विजेता रहा। 51 हजार रुपए पुरस्कार का हिमाचल केसरी मुकाबला सोनू कांगड़ा व टिंकू डंगोह के बीच हुआ। इसमें सोनू कांगड़ा हिमाचल केसरी का खिताब अपने नाम करने में कामयाब रहे। स्थानीय पहलवानों को प्रोत्साहित करने के लिए ऊना केसरी का 31 हजार रुपए पुरस्कार का खिताबी मुकाबला भी करवाया गया। इसमें जगदीप मवा सिंधियां ने राहुल ऊना को चित कर ऊना केसरी का  खिताब अपने नाम किया। उमेश बंटू ने बेहतरीन कमेंटरी करते हुए अखाड़े को बांधे रखा और दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। दंगल मेला आयोजक समिति के सतीश गोगी ने कहा कि इस दंगल मेले को ओर बेहतरीन बनाने का प्रयास किया जाएगा। हिमुडा के वाइस चेयरमैन प्रवीण शर्मा ने कुश्ती को ग्रामीण स्तर पर बढ़ावा देने के लिए ऐसे दंगल मेलों के आयोजन की जमकर प्रशंसा की।

 

 

You might also like