कांग्रेस में तू-तू, मैं-मैं

खुर्शीद के ‘छोड़ गए राहुल’ बयान पर अल्वी का हमला, कुछ नेता घर में ही लगा रहे आग

नई दिल्ली – महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस के अंदर गहरी नाराजगी की खबरें और टॉप लीडर राहुल गांधी के विदेश जाने पर उठ रहे सवालों से पार्टी पहले से ही हलकान थी। अब रही-सही कसर पार्टी के दो शीर्ष नेताओं में मतभेद सामने आने से पूरी हो गई। कांग्रेस नेता राशिद अल्वी अपनी ही पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद के राहुल गांधी पर दिए बयान से इतने खफा हो गए कि उन्होंने इशारों-इशारों में खुर्शीद को घर (कांग्रेस पार्टी) में आग लगाने वाला और पार्टी का दुश्मन तक बता दिया। दरअसल, सलमान खुर्शीद ने कहा था कि राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफे के कारण कांग्रेस पार्टी की मुसीबत बढ़ गई है। खुर्शीद ने कहा कि हमारी सबसे बड़ी समस्या यह है कि हमारे नेता ही छोड़ गए। राहुल गांधी के इस फैसले के कारण पार्टी हार के बाद जरूरी आत्मनिरीक्षण भी नहीं कर पाई। अल्वी ने एक निजी न्यूज चैनल से बातचीत में इस बात पर चिंता जताई कि जब भाजपा से मुकाबले के लिए कांग्रेस को एकजुट होना चाहिए, तब हर जगह से अलग-अलग सुर सुनाई पड़ रहे हैं। यह ऐसा वक्त है जब कांग्रेस की सारी लीडरशिप को, कांग्रेस के वर्कर्स को एकसाथ मिलकर इस सरकार का मुकाबला करना चाहिए। महाराष्ट्र से कोई और बोल रहा है, हरियाणा से कोई और बोल रहा है। ऐसा लग रहा है कि आज हमें बाहर के दुश्मनों की जरूरत ही नहीं रह गई है। घर को आग लग गई, घर के ही चिराग से। वे हालात हैं। इस तरीके से न होकर, इकट्ठा होकर मुकाबला करने की जरूरत है। गौरतलब है कि महाराष्ट्र में मुंबई कांग्रेस के बड़े नेता संजय निरुपम पार्टी के शीर्ष नेताओं के रवैये से नाराज होकर विधानसभा चुनाव में प्रचार नहीं करने का ऐलान कर चुके हैं, जबकि हरियाणा में तो पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर ने पार्टी ही छोड़ दी। उधर, महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस में जबरदस्त खींचतान के बीच योतिरादित्य सिंधिया ने नसीहत दी है। सिंधिया ने कहा कि मैं किसी के कमेंट पर टिप्पणी तो नहीं करूंगा, लेकिन हां, इसमें कोई संदेह नहीं कि कांग्रेस को आत्मावलोकन की जरूरत है। जो स्थिति है, उसका जायजा लेना और सुधार करना, यह समय की जरूरी मांग है।

भाजपा ने लिए मजे, पात्रा बोले-कांग्रेस ने माना उसके पास न नेता, न नीति, न नीयत

नई दिल्ली – कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने राहुल गांधी के पार्टी अध्यक्ष पद छोड़ने पर टिप्पणी की तो भाजपा ने उसे लपकने में कोई देर नहीं की। पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने इसे विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस द्वारा हार स्वीकार कर लेने के रूप में पेश किया। पात्रा ने ट्वीट कर कहा कि अब कांग्रेस के पास न नेता है, न नीति और न ही नीयत। भाजपा प्रवक्ता ने लिखा है कि खुर्शीद मानते हैं कि राहुल गांधी ‘छोड़ गए’ और सोनिया गांधी सिर्फ ‘फौरी इंतजाम’ देख रही हैं। इसका मतलब है कि कांग्रेस में कोई नेता, नीति और नीयत नहीं बची है।

You might also like