काकू चौहान-सोनम चौधरी के तरानों पर थिरका चंबा

चंबा कला उत्सव की पहली सांस्कृतिक संध्या में कलाकारों ने जमाया रंग

चंबा –ऐतिहासिक चौगान में वंदना कला मंच के तत्त्वावधान में आयोजित चंबा कला उत्सव की पहली सांस्कृतिक संध्या लोकगायक काकूराम ठाकुर, नितिश राजपूत और सोनम चौधरी के नाम रही। इन गायकों ने सांस्कृतिक संध्या में हिमाचली, पंजाबी व हिंदी गीतों की बेहतरीन जुगलबंदी करके दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करते हुए तालियां बटोरीं। सांस्कृतिक संध्या के दौरान मंच का संचालन बृजभूषण व रितिका ठाकुर ने की। चंबा कला उत्सव की पहली सांस्कृतिक संध्या में सदर विधायक पवन नैयर ने बतौर मुख्यातिथि, जबकि नगर परिषद की अध्यक्ष नीलम नैयर ने विशेषातिथि के तौर पर उपस्थिति दर्ज करवाई। चंबा कला उत्सव आयोजन समिति के अध्यक्ष सुरजीत ठाकुर ने मुख्यातिथि व विशेषातिथि को शाल व टोपी पहनाकर और स्मृति चिन्ह भंेटकर सम्मानित किया। चंबा कला उत्सव की पहली सांस्कृतिक संध्या में विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली विभूतियों को भी सम्मान दिया गया। चंबा कला उत्सव की पहली सांस्कृतिक संध्या की शुरूआत पारंपरिक मुसाधा गायन से हुई। इसके बाद चंबा के कई उभरते गायकों व डांसरों ने अपनी प्रस्तुतियां दी। सांस्कृतिक संध्या में मैहला की उभरती नन्हीं गायिका सांभवी शर्मा ने आ जा सनम मधुर चांदनी में हम गीत पेशकर खूब समां बांधा। युविका ने नी मैं यार मनाना गीत पर बेहतरीन डांस पेश किया। लोकगायक काकू राम ठाकुर ने चंबें मिंजरा लगोरी और एक चिडू ऐसा पहाड़ी गीतों के साथ-साथ पंजाबी गीत पेश कर अपनी आवाज का लोहा मनवाया। नितिश राजपूत ने तुम्हें दिल लगी भूल जानी पडे़गी और सोनम चौधरी ने ऐसी दीवानगी और पूछो जरा पूछो गीतों के जरिए दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। चंबा कला उत्सव की पहली सांस्कृतिक संध्या के लिए मिस विंटर कॉर्निवाल चयन के पहले राउंड का आयोजन भी किया गया। इसमें चंबा की दस युवतियों ने रैंप पर कैटवॉक के जरिए अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। मिस विंटर कॉर्निवाल चयन के निर्णायक मंडल में रिटायर्ड डीपीआरओ अमीन शेख चिश्ती, डा. शिखा व रमेश भारद्वाज शामिल रहे। चंबा कला उत्सव की पहली सांस्कृतिक संध्या में लोगों की भारी भीड़ उमड़ी।

You might also like