किसानों को मिले आठ हजार पेंशन

राष्ट्रीय किसान संगठन के  प्रदेश स्तरीय सम्मेलन में उठी मांग, हितों के लिए लड़ेंगे लड़ाई

भोरंज –राष्ट्रीय किसान संगठन के दो दिवसीय प्रदेश स्तरीय किसान अवासीय सम्मेलन में किसानों की समस्याओं और उनकी मांगों पर गहन विचार-विर्मश करके कई प्रस्ताव पारित करके केंद्र सरकार से किसान के हितों के लिए ठोस व तर्कशील नीति बनाने की मांग की तथा किसानों के हितों की अनदेखी पर देशभर में आंदोलन करने की चेतावनी दी। सम्मेलन के समापन समारोह की अध्यक्षता करते हुए रविवार को अखिल भारतीय राष्ट्रीय किसान संगठन के अध्यक्ष शिव देव सिंह ठाकुर ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि किसानों की हितों की रक्षा के लिए सरकारों से आर-पार की लड़ाई लड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि वर्तमान कृषि बीमा योजना किसानों के हितों के अन्याय है। कृषि बीमा योजना में बदलाव करके प्रत्येक किसान का व्यक्तिगत बीमा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसानों को प्रति माह आठ हजार रुपए पेंशन देने की व्यवस्था की जाए। इसके आलाव किसानों का ब्लॉक स्तर पर फ्री मेडिकल जांच कैंपों का अयोजन किया जाए। सम्मेलन के अंतिम दिन देशभर में बढ़ती बेसहारा पशुओं की संख्या पर चिंता प्रकट की गई। इस दौरान राष्ट्रीय महामंत्री देशराज मोदगिल, सचिव कुबेर सिंह ने पंचायत स्तर पर गोशालाएं खोलने की मांग को उठाया। हिमाचल के प्रदेशाध्यक्ष हंसपाल ने हिमाचल प्रदेश में दो दिवसीय सम्मेलन करने पर आभार प्रकट किया। किया। इस दौरान प्रदेष उपाध्यक्ष डा. रमेश डोगरा,  महासचिव बाल कृष्ण शास्त्री, सरला शर्मा, राजीव कुमार, मनोज कुमार, रमेश चंद, कै. किशोरी लाल, भगत राम, जगदीश चंद, प्रेम कुमार, मस्त राम, मलकीयत सिंह, चमन राही, आरआर शर्मा, उमेश दत्त, संजीव कुमार, कर्म सिंह, रतन लाल स्वामी राव, बीडी शर्मा, विजय सिंह, नंद लाल, हंस ठाकुर, संतोश कुमारी, सरीता देवी, शारदा देवी, नंद लाल शर्मा, प्रकाश चंद, रूप लाल ठाकुर, सोहन लाल व राम लोक, ज्ञान चंद व अन्य रहे।

 

You might also like