गर्ल्ज स्कूलों में सिर्फ लेडीज प्रिंसीपल

प्रदेश में खुलने वाले अटल आदर्श स्कूलों के लिए शिक्षा विभाग ने बनाए नियम, लड़कियों के होस्टल में वार्डन भी महिला

शिमला – हिमाचल प्रदेश में बनाए जाने वाले अटल आदर्श स्कूलों में लड़कों व लड़कियों की सुविधाओं के अनुसार शिक्षक व अन्य स्टाफ की भर्तियां की जाएंगी। खास बात यह है कि राज्य में खुलने वाले अटल आदर्श गर्ल्ज स्कूलों में महिला प्रिंसीपल के साथ ही होस्टल में वार्डन भी महिला ही तैनात की जाएंगी। इसके साथ ही ब्वायज स्कूलों में भी ज्यादातर स्टाफ मेल ही होगा। शिक्षा विभाग ने यह फैसला लिया है। शिक्षा विभाग का इस फैसले पर मानना है कि इससे अटल आदर्श स्कूलों में लड़कों व लड़कियों को पढ़ना व रहना आसान हो जाएगा। विभाग के अनुसार छात्राओं के अटल स्कूलों में महिला स्टाफ होने से वहां पर लड़कियां आराम से भी रह पाएंगी, वहीं कोई भी दिक्कत होगी, तो उस समस्या को आसानी से वे प्रधानाचार्य व होस्टल वार्डन को बता पाएंगी। शिक्षा विभाग ने लड़कियों के स्कूल में महिला और ब्वायज स्कूलों में मेल स्टाफ भर्ती करने का फैसला देहरादून के अटल स्कूलों की स्टडी करने के बाद लिया है। हालांकि इस पर अभी तक कोई फाइनल फैसला नहीं हुआ है। शिक्षा विभाग ने सरकार को फाइल भेजी है। सरकार से मंजूरी मिलने के बाद अटल आदर्श स्कूलों के नए नियम प्रदेश में लागू हो जाएंगे। फिलहाल प्रदेश सरकार ने शिक्षा विभाग को दस अटल आदर्श स्कूलों में जल्द कार्य पूरे करने के निर्देश दिए हैं। वहीं कहा गया है कि अगले साल तक इन स्कूलों में दाखिला देना शुरू हो जाना चाहिए।  गौर हो कि प्रदेश में निर्धन बच्चों के लिए खुलने वाले अटल आदर्श स्कूलों की पॉलिसी में सरकार पहले से ही बदलाव करने जा रही है। बताया जा रहा है कि इसके अलावा अटल आदर्श स्कूलों में छात्रों को पांचवीं कक्षा के बाद दाखिला देने के फैसले पर सरकार जल्द मुहर लगा सकती है। पहले अटल स्कूल में पहली कक्षा से छात्र व छात्राओं को दाखिला देने का प्लान था, वहीं अब बताया जा रहा है कि छात्र बड़ी कक्षा में अगर स्कूल में एंट्री करेगा, तो अभिभावकों से दूर रहकर आसानी से पढ़ाई पर फोकस कर पाएगा। दरअसल अटल आदर्श स्कूल बोर्डिंग स्कूल की तरह ही होंगे।  फिलहाल अटल आदर्श स्कूलों में हर साल 32 से 35 छात्रों का बैच बैठाया जाएगा। यानी पांचवीं के बाद जो भी छात्र इन स्कूलों में पढ़ना चाहते हैं, उनकी प्रवेश परीक्षा ली जाएगी। प्रवेश परीक्षा लेने के बाद जो छात्र मैरिट में होंगे, उन्हें दाखिला दिया जाएगा। बता दें कि  मैरिट में आने वाले इन स्कूलों में छात्र व छात्राओं को रहने, खाने, पीने व पढ़ाई का पूरा खर्चा सरकार ही देगी।

32-25 बीघा पर तैयार हो रहे स्कूल

हिमाचल में यह अटल आदर्श स्कूल 32 अैर 25 बीघा जमीन पर तैयार होंगे। सरकार की ओर से जारी हुई गाइडलाइन के तहत प्रदेश के मैदानी क्षेत्रों में 32 बीघा व अपर एरिया में 25 बीघा जमीन पर इन स्कूलों का कैंपस तैयार होगा।

You might also like