गर्ल्ज स्पोर्ट्स होस्टल में महफूज नहीं बेटियां

सरकाघाट  –मंडल मुख्यालय सरकाघाट में स्थानीय विधायक कर्नल इंद्र सिंह ने जून माह में गर्ल्ज स्पोर्ट्स होस्टल का उद्घाटन विधि पूर्वक किया था और इस होस्टल मंे जहां प्रदेश के विभिन्न जिलों से 20 चयनित बास्केटबाल के खिलाड़ी निःशुल्क खेलने का नियमित अभ्यास करते हैं, वहीं स्थानीय स्कूल मंे पढ़ाई भी कर रहे हैं। पांच माह का समय हो गया है, लेकिन अभी तक इस होस्टल को न महिला वार्डनर मिल पाई है न ही चौकीदार और न ही चपरासी नसीब हुआ है। एक कोच के सहारे होस्टल चल रहा है। यही नहीं, होस्टल के चारों ओर ढंग की चारदीवारी नहीं है और न ही एंट्री के लिए ढंग का रास्ता है। इसके साथ होस्टल भवन के प्रांगण में शौचालय भी नहीं है और किचन भी होस्टल से दस मीटर दूरी पर है। चारदीवारी न होने से लड़कियों की सुरक्षा का जिम्मा किसका है, कोई व्यक्ति कहीं से भी होस्टल के अंदर दाखिल हो सकता है। खिलाड़ी लड़कियों की ग्रुप लीडर ने कहा कि खेलों के अभ्यास और पढ़ाई के लिए यह स्थान बिलकुल सही है, लेकिन सुरक्षा की दृष्टि से लड़कियां यहां महफूज नहीं हैं। उन्होंने कहा कि होस्टल के बाहर गेट के साथ गंदी नाली बह रही है। इस पर ढक्कन न होने से गेट से अंदर आना जोखिम भरा है, वहीं गंदी नाली के कारण बदबू से यहां रहना मुश्किल है। उन्होंने सरकार से मांग की है कि शीघ्र होस्टल मं महिला वार्डनर, चौकीदार और चपरासी की नियुक्ति की जाए और सुरक्षा की दृष्टि से होस्टल के चारों ओर पक्की चारदीवारी लगाई जाए और होस्टल के अंदर-बारह साफ-सफाई करवाई जाए। वहीं, शौचालय व किचन होस्टल भवन के अंदर बनाए जाएं। उधर, स्पोटर्स गर्ल्ज के कोच राकेश ठाकुर ने माना कि होस्टल में पूरा स्टाफ नहीं है और होस्टल चारों ओर से खुला है, शौचालय व किचन भी होस्टल के बाहर हैं। गर्ल्ज खिलाड़ी यहां किसी तरह से सुरक्षित नहीं हैं, जिसके बारे में  आलाधिकारियों को कई बार पत्र लिखकर व मौखिक तौर पर  सूचित किया जा चुका है।

 

 

You might also like