चांदपुर में खुलेगा सेंट्रल स्कूल

बिलासपुर – बिलासपुर के लिए स्वीकृत केंद्रीय विद्यालय के लिए जमीन का चयन कर लिया गया है। जिला मुख्यालय से महज कुछ किलोमीटर दूर चांदपुर के पास खाली पड़ी सरकारी जमीन पर केंद्रीय विद्यालय की योजना तैयार की गई है। इसके लिए तय औपचारिकताएं पूरी करने के बाद आगामी कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी। बिलासपुर में केंद्रीय विद्यालय खुलने से छात्रों को घर-द्वार उच्च एवं गुणात्मक शिक्षा की सुविधा मिलेगी। घुमारवीं के बाद बिलासपुर को मिलाकर केंद्रीय विद्यालयों की संख्या जिला में अब दो हो जाएगी। जानकारी के मुताबिक केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कुछ समय पूर्व बिलासपुर जिला प्रशासन को एक पत्र भेजा था, जिसमें केंद्रीय विद्यालय शुरू करने का प्रस्ताव दिया था, लेकिन इसके लिए शहर या फिर आसपास के क्षेत्र में उपयुक्त जमीन का चयन करने के निर्देश दिए गए थे। इस पर गंभीरता दिखाते हुए जिला प्रशासन ने कवायद भी शुरू कर दी थी। एक माह की ट्रेनिंग से लौटने के बाद जिलाधीश राजेश्वर गोयल ने केंद्रीय विद्यालय के लिए जमीन खोजने की कसरत तेज कर दी। बताया जा रहा है कि प्रशासन ने एक-दो जगहों पर साइट्स देखी थी, लेकिन सबसे उपयुक्त साइट शहर में एचआरटीसी वर्कशॉप के समीप बागबानी विभाग की नर्सरी को माना गया, मगर यहां बात नहीं बनी। ऐसे हालात में चांदपुर के पास खाली पड़ी सरकारी जमीन देखी गई। अब इस जमीन पर केंद्रीय विद्यालय की स्थापना की योजना को सिरे चढ़ाने के लिए जिला प्रशासन कसरत करेगा। उल्लेखनीय है कि जिला में इस समय एक केंद्रीय विद्यालय घुमारवीं शहर में है। यह विद्यालय एक किराए के मकान में चल रहा है। हालांकि इस विद्यालय के लिए घुमारवीं शहर के पास ही जमीन चयनित कर रखी है, लेकिन वन मंत्रालय की एनओसी मिलने के बाद भवन एवं अन्य आधारभूत ढांचा विकसित करने के लिए कवायद आरंभ की जाएगी।

You might also like