जीआईएफ फाइल से व्हाट्सऐप हैक

व्हाट्सऐप में एक बग का पता चला है, जो एक मलीशस (वायरस वाले) जीआईएफ फाइल के जरिए हैकर्स डिवाइस और यूजर की डीटेल को हैक कर ले रहे थे। नेक्स्टवेब की एक रिपोर्ट के अनुसार, इसकी जड़ व्हाट्सऐप का डबल फ्री बग था। व्हाट्सऐप का डबल फ्री बग फोन की मेमरी को करप्ट कर देता था। मेमरी को करप्ट करने के बाद यह बग ऐप्लिकेशंस को क्रैश कर हैकर्स को डिवाइस का एक्सेस दे देता था। रिपोर्ट के मुताबिक, यह बग व्हाट्सऐप के गैलेरी व्यू में छिपा रहता था और इसकी मदद से हैकर यूजर के फोन में मौजूद फोटो, वीडियो और जीआईएफ को प्रीव्यू करते थे। वहीं, इस बारे में व्हाट्सऐप का कहना है कि इस बग को पिछले महीने ही फिक्स कर दिया गया है। इसके साथ ही व्हाट्सऐप ने कहा है कि इस बग के यूजर्स को नुकसान पहुंचने वाली बात को सच मानने का कोई तुक नहीं है। रिसर्चर्स ने बताया कि यह बग व्हाट्सऐप के वर्जन 2.19.230 तक बिलकुल सही तरीके से काम कर रहा था, लेकिन व्हाट्सऐप के वर्जन 2.19.244 अपडेट के साथ कंपनी ने इसे फिक्स कर दिया। इतना ही नहीं, यह बग एंड्रॉयड 8.1 और एंड्रॉयड 9.0 ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए भी बड़ा खतरा बना हुआ था। वहीं, एंड्रॉयड 8.0 और उससे नीचे के वर्जन इस बग से सुरक्षित थे। रिसर्चर्स ने कहा है कि एंड्रॉयड के पुराने वर्जन्स पर यह बग कभी भी आ सकता है। हालांकि, डबल फ्री बग के बाद सिस्टम के मेलॉक कॉल्स के कारण ऐप तुरंत क्रैश हो जाता है। गिजमोडो की रिपोर्ट के अनुसार, यह उस प्वाइंट तक पहुंचत ही नहीं पाता, जहां पीसी रजिस्टर को कंट्रोल किया जा सके।

You might also like