टेक्नोमैक घोटाले में रेड कॉर्नर नोटिस

इंटरपोल की कार्रवाई, कहीं से भी गिरफ्तार हो सकते हैं कंपनी के पूर्व निदेशक

शिमला -बहुचर्चित इंडियन टेक्नोमैक घोटाले के मुख्य आरोपी के खिलाफ इंटरपोल ने रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर दिया है। स्टेट सीआईडी के पत्र पर इंटरपोल ने गुरुवार को रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर दिया है। ऐसे में अब आरोपी एवं कंपनी के पूर्व एमडी राकेश शर्मा को विदेश से भी गिरफ्तार किया जा सकता है। सूचना के अनुसार भगोड़े आरोपी की फोटो, पासपोर्ट व घोटाले सहित अन्य आवश्यक जानकारियां इंटरपोल को उपलब्ध करवाई गई हैं। करोड़ों रुपए के घोटाले में मुख्य आरोपी एवं कंपनी के पूर्व एमडी राकेश कुमार शर्मा को बुधवार को नाहन की विशेष अदालत ने भगोड़ा घोषित किया है। उसकी सारी संपत्ति की कुर्की के आदेश भी दिए गए हैं। गौरतलब है कि कई दफा जांच एजेंसी ने भगोड़े आरोपी के ठिकानों पर दबिश दी, लेकिन वह हाथ नहीं लगा। आरोपी लंबे समय से फरार है और आशंका है कि वह विदेश में छिपा हुआ है। इसको देखते हुए सीआईडी अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों से संपर्क बनाए हुए है, ताकि उसे गिरफ्तार कर स्वदेश लाया जा सके। सीआईडी सूत्रों के मुताबिक आरोपी राकेश शर्मा विदेश में ही छिपा है। उल्लेखनीय है कि टेक्नोमैक घोटाले में अब तक 22 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं। अब मुख्य आरोपी राकेश शर्मा की तलाश में स्टेट सीआईडी विदेश में दबिश देगी। सीआईडी के मुताबिक राकेश शर्मा दुबई, यूएई, दक्षिण अफ्रीका, लंदन और इंडोनेशिया में छिपा हो सकता है। ऐसे में अब रेड कॉर्नर नोटिस जारी होते ही सीआईडी की टीम राकेश शर्मा को विदेश से भी गिरफ्तार कर सकती है। जानकारी के मुताबिक टेक्नोमैक कंपनी घोटाले में पहली चार्जशीट जनवरी, 2019 को पेश की थी। उसके बाद मई में भी सप्लीमेंटरी चालान भी पेश किया गया था।

सरकारी महकमों को भनक तक नहीं लगी

कंपनी कई सालों तक फर्जीबाड़ा करती रही, जबकि सरकारी महकमों को इसकी भनक तक नहीं लगी। कंपनी ने टैक्स भी नहीं चुकाया। इसके साथ ही कंपनी ने जाली दस्तावेज तैयार कर क्षमता से अधिक उत्पादन दर्शाया। कंपनी ने कई वर्षों तक उत्पादन ज्यादा दर्शाया।

कहीं पैसा विदेशी खातों में तो जमा नहीं करवाया

कंपनी ने एक दर्जन से अधिक बैंकों से जो करोड़ों रुपए का कर्ज फैक्टरी के नाम पर लिया था, उसे कहां-कहां निवेश किया गया, इसको लेकर भी जांच चल रही है।  ईडी भी अपनी जांच के अंतर्गत यह तथ्य खंगाल रही है कि कहीं यह पैसा विदेशी खातों में तो जमा नहीं है।

You might also like