दीपावली पर एचआरटीसी का स्पेशल गिफ्ट

हमीरपुर डिपो बाहरी प्रदेशों के लिए चलाएगा अढ़ाई दर्जन स्पेशल बसें; डिमांड के मुताबिक भेजी जाएंगी बसें, स्टाफ तैनात

हमीरपुर –हिमाचल पथ परिवहन निगम हमीरपुर दिवाली पर घर आ रहे यात्रियों के लिए अढ़ाई दर्जन से अधिक स्पैशल बसें चलाएगा। हमीरपुर डिपो को दिल्ली, चंडीगढ़, नालागढ़ व बद्दी से बसों की डिमांड पहुंच गई है। ऐसे में आने वाले दिनों में लोकल रूट की बसें प्रभावित हो सकती हैं। डिपो ने ड्राइवरों व कंडक्टरों की छुट्टियां भी रद्द कर दी गई हैं। दिवाली तक किसी भी कर्मचारी को अवकाश नहीं मिलेगा। बता दें कि हमीरपुर डिपो दिवाली से पहले 32 स्पैशल बसें चलाएगा। डिपो में दिल्ली के लिए 10, चड़ीगढ़ के लिए 12 और नालागढ़ व बद्दी के लिए चार-चार बसों की डिमांड पहुंच गई है। ऐसे में हमीरपुर डिपो में 25 अक्तूबर को दिल्ली के लिए पांच, 26 अक्तूबर को दिल्ली के लिए पांच, 24 अक्तूबर को चंडीगढ़ के लिए दो, 25 अक्तूबर को चंडीगढ़ के लिए छह और 26 अक्तूबर के लिए चंडीगढ़ के लिए छह स्पैशल बसें भेजी जाएंगी। इसके अलावा नालागढ़ व बद्दी रूट पर भी 25 व 26 अक्तूबर को चार-चार स्पैशल बसें भेजी जाएंगी, ताकि किसी भी यात्री को घर पहुंचने में किसी तरह की परेशानी न झेलनी पड़े। निगम ने स्पैशल बसों की डिमांड के बाद ड्राइवरों व कंडक्टरों की छुट्टियां भी दिवाली तक रद्द कर दी गई हैं। निगम कर्मचारियों को स्थिति के मुताबिक ही अवकाश मिलेगा। ऐसे में आने वाले दिनों में लोकल रूट बाधित हो सकते हैं। लोगों को बसों की कमी के चलते खासा परेशान होना पड़ सकता है। निगम की मानें तो स्पैशल बसों को लेकर स्टाफ तैनात कर दिया गया है। जैसे-जैसे डिपो को डिमांड मिलती रहेगी, वैसे-वैसे बसें स्पैशल रूटों पर भेजी जाएंगी। हालांकि हमीरपुर डिपो पहले ही स्टाफ की कमी से जूझ रहा है। ऐसे में स्पैशल बसों की डिमांड ने डिपो की दिक्कतें और बढ़ा दी हैं। हमीरपुर डिपो मंे अभी भी 50 कंडक्टरों की कमी चल रही है। गौरतलब है कि हमीरपुर डिपो में रोजाना 183 रूट लोकल व लांग रूट पर चलाए जा रहे हैं। इनका जि मा डिपो के सिर्फ 150 कंडक्टरों के जि मे है। हालांकि डिपो में 113 रेगुलर व 65 टीएमपीए (कांट्रेक्ट) कंडक्टर हैं। इनमें से 15 कंडक्टर ऐसे हैं, जो पद के अनुरूप सेवाएं दे रहे हैं। जबकि 10 कंडक्टर रोजाना छुट्टी पर रहते हैं। ऐसे में निगम को रूट बहाल करने के लिए डिपो के तीन मकैनिकों से कंडक्टर का कार्य लिया जा रहा है। संबंधित मकैनिकों को उनके घर की तरफ जाने वाले रूट का जिम्मा सौंप गया है, जो अगले दिन सुबह रूट लेकर हमीरपुर पहुंचते हैं और उसके बाद वर्कशॉप में पूरा दिन काम करते हैं। ऐसे में आने वाले दिनों में निगम की दिक्कतें और बढ़ सकती हैं।

You might also like