पदोन्नति कोटे से न हो छेड़छाड़

प्रदेश विज्ञान अध्यापक संघ ने सरकार से बुलंद की आवाज

मंडी –प्रदेश विज्ञान अध्यापक संघ के प्रदेश प्रवक्ता एवं जिला मंडी अध्यक्ष नरेंद्र ठाकुर ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि मुख्याध्यापक से प्रधानाचार्य के पदोन्नति कोटे से किसी प्रकार की छेड़छाड़ न की जाए। उन्होंने कहा कि  इस वर्ग से करीब 30 हजार अध्यापक जुड़े हैं।  विज्ञान अध्यापकों ने मांग की है कि वर्ष 2002 से विज्ञान अध्यापकों का प्रायोगिक भत्ता 150 रुपए  हैं, जो कि करीब 17 वर्षोंं से एक रुपए भी नहीं बढ़ा है। संघ इस बाबत कई बार प्रदेश सरकार के समक्ष मांग रख चुका है, लेकिन मांग को अनदेखा किया जा रहा है। इससे प्रदेशभर के विज्ञान अध्यापकों में भारी रोष है। उन्होंने कहा कि विज्ञान अध्यापकों का प्रायोगिक भत्ता 150 रुपए से बढ़ाकर 1000 रुपए किया जाए। उन्होंने कहा कि इसके अलावा अनुबंध कर्मचारियों को उनकी नियुक्ति की तिथि से  वरिष्ठता प्रदान की जाए।  विज्ञान अध्यापक संघ पुरानी पेंशन की बहाली की भी प्रदेश सरकार से पुरजोर मांग करता है। जिला मंडी विज्ञान अध्यापक संघ की अपनी मांगों को लेकर 24 अक्तूबर को दोपहर के समय शिक्षा उपनिदेशक अशोक शर्मा से बैठक है, जिसमें सभी खंडों के अध्यक्ष महामंत्री कोषाध्यक्ष एवं जिला मंडी की कार्यकारिणी इसमें उपस्थित रहेगी । इस बैठक में चार नवंबर से होने वाले जिला स्तरीय बाल विज्ञान मेले से संबंधित भी चर्चा होगी।

You might also like