पेंटिंग से दिखाई शिमला की खूबसूरती

गेयटी में सजी चित्रकला प्रदर्शनी, दर्शकों को लुभा रहीं 17 कलाकारों की 100 से अधिक पेंटिंग्स 

शिमला –शिमला के गेयटी थियेटर में सोमवार को पंजाब के प्रसिद्ध कैनुअल टच पोइट्री ऑफ कलर आर्ट संस्था द्वारा चित्रकला प्रदर्शनी लगाई गई। यह प्रदर्शनी गेयटी में 17 अक्तूबर लक चलेगी। इस प्रदर्शनी में पंजाब के 17 कलाकारों की लगभग 100 से अधिक सुंदर चित्रकारी सजाई गई हैं। बता दें कि इस संस्था की यह पहली प्र्रदर्शनी है, जिसमें पहले ही दिन दर्शकों को प्रदर्शनी में लगी चित्रकारी खूब पसंद आ रही है। साथ ही दर्शक यहां आकर चित्रकारों की चित्रकारी की खूब तारीफ कर रहे हैं। इस चित्रकला प्रदर्शनी की खास बात तो यह है कि इसमें सजी अधिकतर पेंटिंग्स शिमला की खूबसूरती को दिखा रही हैं, जिसमें शिमला का रिज मैदान, शिमला का रेलवे स्टेशन सहित सुंदर रेल को दिखाया गया है। इस संस्था के प्रेजिडेंट गुरजीत सिंह द्वारा की गई चित्रकारी शिमला पर आधारित है। उन्होंने बताया कि उनकी  पढ़ाई हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से हुई है। ऐसे में उनकी शिमला से बड़ी यादें जुड़ी हैं। उसी को देखते हुए उन्होंने अपनी पेंटिंग में शिमला की  खूबसूरती को दर्शया है। इसी के साथ उन्होंने पेंटिंग कर रहे युवाओं को संदेश दिया है कि यदि वे मन लगा कर चित्रकारी करें साथ ही रचनात्मक चित्रकारी करें। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि आज के दौर में जितने भी चित्रकार हंै उन्हें सरकार की तरफ से रोजगार के कोई उचित साधन नहीं हैं। हैरानी की बात तो यह है कि पेंटिंग विषयों में एमए किए हुए छात्रों को इस क्षेत्र में रोजगार न मिलने के कारण वे कोई और कार्य करने के लिए मजबूर हैं। यदि ऐसा ही रहा तो आने वाले समय में पेंटिंग जैसे विषय में छात्र पढ़ाई नहीं करेंगे। प्रदेश सरकार को चाहिए कि इस विषय में युवाओं को रोजगार के अवसर दें। स्कू लों, कालेजों सहित सरकारी क्षेत्रों में युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करें।

गेयटी में दिखी युवा से बुढ़ापे तक की तस्वीर

गेयटी में लगी चित्रकला प्रदर्शनी में गुरजीत सिंह की चित्रकारी को दर्शक खूब पसंद कर रहे हैं। इस चित्रकारी की खास बात तो यह है कि इसमें बहुत ही सुंदर तरीके से व्यक्ति की कि शोर अवस्था से लेकर बुढ़ापे तक को दिखाया गया है, जिसे देख कर हर कोई सोच में पढ़ जाता है। बहुत ही सुंदर रंगों से लोगों की भावना को दिखाया गया है।

 

You might also like