पेंशन अदालत…दूर कर लें शंकाएं

बिलासपुर में उपायुक्त राजेश्वर गोयल ने अधिकारियों से जानकारियां हासिल करने का किया आह्वान

बिलासपुर –कार्यालय प्रधान महालेखाकार हिमाचल प्रदेश शिमला द्वारा जिला परिषद हाल में दो दिवसीय पेंशन अदालत का आयोजन किया गया। पेंशन अदालत का शुभारंभ उपायुक्त राजेश्वर गोयल ने किया। इस अवसर पर उपस्थित अधिकारियों और कर्मचारियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि महालेखाकार कार्यालय द्वारा आयोजित पेंशन अदालत समस्त आहरण एवं संवितरण अधिकारियों के लिए अत्यंत महत्त्वपूर्ण और लाभकारी हैं। उन्होंने अधिकरियों से कहा कि पेंशन अदालत में सभी अधिकारी आवश्यक जानकारियां ग्रहण करें, ताकि कार्यालय में अधिकारियों और कर्मचारियों के पेंशन मामले बनाते समय किसी भी प्रकार की कठिनाई का सामना न करना पड़े और पेंशनर को सभी लाभ समय पर मिल सके। उन्होंने अधिकारियों से आह्वान किया कि इस दो दिवसीय पेंशन अदालत में सभी प्रकार की शंकाओं को अवश्य दूर कर लें। प्रधान महालेखाकार कार्यालय के लेखा अधिकारी ओम प्रकाश ठाकुर ने बताया कि पेंशन अदालत में प्रथम दिन स्वारघाट और बिलासपुर के लगभग 120 आहरण एवं वितरण अधिकारियों, जिला कोषाधिकारी एवं पेंशन कल्याण संघ के पदाधिकारियों ने भाग लिया। उन्होंने बताया कि इस अदालत का मुख्य उद्देश्य राज्य सरकार द्वारा पेंशन, परिवारिक पेंशन, सामान्य भविष्य निधि, ऋण संबंधी मामलों से संबंधित समय-समय पर जारी संशोधित नियमों अधिसूचनाओं तथा दिशा-निर्देशों के बारे विस्तृत रूप से अवगत करवाना है तथा पेंशन भोगियों, अभिदाताओं द्वारा मौके पर रखी गई समस्याओं एवं विभागों में पूर्ण दस्तावेजों के अभाव के कारण लंबित मामलों का यथासंभव निपटारा किया जाना है। इस अवसर पर इन विषयों से संबंधित जिन अभिदाताओं एवं पेंशन, पारिवारिक पेंशन भोगियों द्वारा मामले प्रस्तुत किए गए। उनका मौके पर समाधान भी सुनिश्चित किया गया। इस अवसर पर हंसराज ने जीपीएफ से संबंधित मामलों की विस्तारपूर्वक जानकारी दी। इस मौके पर लेखा अधिकारी हरीश जुल्का भी उपस्थित रहे।

 

You might also like