बुक मार्केट से शेर-ए-पंजाब एक घंटे में

शिमला – शहर में त्योहारी सीजन के चलते तहबाजारियों ने बाजारों में जगह-जगह कब्जा जमा कर रहा है। नगर निगम की टीम भी अवैध तौर पर बैठे तहबाजारियों को खदेड़ने के लिए रोजाना बाजार का दौरा कर रही है। शहर में तहबाजारी के कारण बाजारों में लोगों का चलना मुश्किल हो गया। और उन्हें आने जाने में कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वहीं कोई हादसा होने पर लोअर बाजार और राम बाजार में गाडि़यों को अस्पताल पहुंचने में भी मुश्किल का सामना करना पड़ता है। गौर हो कि गुरुवार को भी निगम की टीम ने जिन तहबाजारियों का सामान जब्त किया था। ऐसे में साफ है कि नगर निगम रेहड़ी-फड़ी वालों को शहर में जगह-जगह बैठने पर रोक लगा रहे हैं। तहबाजारी अपनी जगह में ही बैठे रहने देने की मांग लेकर आयुक्त पंकज राय से मांग की गई हैं। बता दें कि इन तहबाजारियों में बेहद कम संख्या में ही रजिस्टर्ड तहबाजारी शामिल हैं। बताया जा रहा है कि अभी तक केवल 568 तहबाजारी ही ऐसे हैं जिनका निगम के पास पंजीकरण है। बाकी अन्य तहबाजारियों ने बाजारों में इन दिनों सड़क के दोनों ओर अवैध तरीके से दुकानें सजाई गई हैं। निगम की टीम बाजारों में अभियान तो चलाती है, लेकिन टीम के जाते ही पहले की दोबारा दुकानें सज जाती हैं। आम जनता का बाजारों से चलना मुश्किल है। बुक मार्केट से शेरे-ए-पंजाब का जो रास्ता दस मिनट में तय हो जाता है उसे क्रास करने के लिए ही एक घंटा लग रहा है। आधी सड़क तक दुकानें सजाई गई हैं। नगर निगम ने इसके लिए दस होमागार्ड भी तैनात किए हैं, जिन्हें रजिस्टर्ड तहबाजारियों की वार्ड वाइज लिस्ट भी दी गई है। हाल ही में निगम द्वारा कई गई वीडियोग्राफी में 1095 तहबाजारियों का आंकड़ा सामने आया था। इसमें से ज्यादातर बाहरी राज्यों के लोग हैं जो बिना शुल्क दिए यहां अपनी दुकानें लगा रहे हैं। अब नगर निगम ने इनका पंजीकरण करना शुरू कर दिया है। पहले चरण में 568 तहबाजारियों का पंजीकरण किया जाएगा और पुलिस वेरिफिकेशन के बाद ही इन्हें आई कार्ड जारी किया जाएगा। जिसे दिखाने के बाद ही नगर निगम उन्हें यहां बैठने की इजाजत देगा। नगर निगम  द्वारा  यह फैसला किया था कि तहबाजारियों के आई कार्ड बनाए जाएगें और उन तहबाजारियों को ही यहां बैठने की इजाजत दी जाएगी, जिनको नगर निगम ने आई कार्ड जारी किया गया होगा।  नगर निगम में शहर के कुल 168 तहबाजारी पंजीकृत हैं, जो कि नगर निगम को बैठने का किराया अदा करते हैं, जबकि शहर में टोटल 11 सौ के करीब तहबाजारी हैं।  तहबाजारियों का पंजीकरण करने के बाद किसी ओर को आई कार्ड जारी किया जाएगा न ही किसी का पंजीकरण किया जाएगा, जो बिना कार्ड बैठेगा उसके खिलाफ सख्त करवाई अमल में लाई जाएगी।

लोअर बाजार में दुकानों के बाहर सजा सामान

शिमला के बाजारों में त्योहारी सीजन के चलते काफी संख्या में लोग  खरीददारी के लिए पहुंच रहे हैं। वहीं, दुकानदारों द्वारा भी इन दिनों नया सामान लाया जा रहा है, लेकिन यह सामान आम जनता के  लिए काफी समस्या खड़ी कर रहा है। दरस्ल यह सामान दुकानदारों की दुकान के सामने ही उतरता है। शिमला की सड़कें व लोअर बाजार वैसे ही काफी तंग है। बावजूद इसके लोगों बाजार में इन दिनों खरीदारी करने के लिए भी लोग पहुंच रहे हैं। ऐसे में लोगों के लिए चलने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। तंग रास्ता होने के कारण आम जनता सहित बच्चे, बुजुर्ग व महिलाओं को परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

You might also like