ब्यास में आज सबसे लंबे राफ्टिंग ट्रैक पर उतरेंगी राफ्टें

मनाली से 270 किलोमीटर की दूरी तय कर 12 सदस्यीय दल 26 को पहुंचेगा देहरा, खेल मंत्री करेंगे रवाना

मनाली –ास नदी में पहली बार 270 किलोमीटर लंबे रिवर राफ्टिंग टै्रक पर राफ्टिंग की जाएगी। प्रदेश के इतिहास में पहली बार हो रहे इसे आयोजन के गवाह जहां सैकड़ों लोग बनेगे, वहीं अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण खेल संस्थान मनाली द्वारा आयोजित किए जा रहे इस अनूठे व रौचक अभियान को अंजाम देने की तैयारी कर ली गई है। वन, परिवहन एवं खेल मंत्री गोविंद ठाकुर बुधवार को इस अभियान को हरी झंडी देंगे। पर्वतारोहण संस्थान ब्यास की जलधारा में 270 किलोमीटर की राफ्टिंग कर न केवल नया कीर्तिमान स्थापित करने जा रहा है, बल्कि अपने इस एक्सपीडिशन को लिम्का बुक ऑफ  रिकार्ड में दर्ज करने जा रहा है। संस्थान के निदेशक कर्नल नीरज राणा के नेतृत्व में राफ्टिंग का एक दल बुधवार को मनाली से रवाना होगा और 26 को कांगड़ा के देहरा में पहुंचेगा वहीं पर अभियान का सम्मापन भी होगा। संस्थान के अधिकारियों की मानंे तो इस दल की चुनोतियां कम  हीं हैं।  हीं ब्यास की तेज धाराएं, तो कहीं संकरी जगह तो कहीं गहरे पानी को पार कर राफ्टर मनाली से देहरा पहुंचेंगे। अभियान के दौरान राफ्टर औट और पंडोह डैम में अपनी राफ्ट को उठाकर आगे ले जाएंगे। उधर, गोविंद ठाकुर, खेल मंत्री हिमाचल सरकार का कहना है कि साहसिक खेलों को बढ़ावा देने के लिए  सरकार यथासभंव प्रयास कर रही है। अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण संस्थान मनाली का प्रयास सराहनीय है। इस अभियान के माध्य से प्रदेश में जल क्रिड़ाओं को बढ़ावा मिलेगा।

दो राफ्टों में सवार होंगे 12 राफ्टर

अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण खेल संस्थान के निदेशक नीरज राणा का कहना है कि अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण खेल संस्थान मनाली की और से बुधवार को मनाली से देहरा के मध्य रिवर राफ्टिंग एक्सपीडिशन को खेल मंत्री गोविंद ठाकुर हरी झंडी दिखाएंगे। ब्यास नदी पर पहली बार किए जा रहे इस एक्सपीडिशन में दो राफ्ट में 12 राफ्टरों का दल शामिल रहेगा। 270 किलो मीटर लंबे इस एक्सपीडिशन को लिमका बुक ऑफ  रिकॉर्ड में भी शामिल करने के लिए सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। इस तरह के एक्पीडिशन का आयोजन ब्यास नदी में पहली बार किया जा रहा है।

 

 

You might also like