भूमिहीनों को मिलेें रिहायशी मकान

एडीएम से मिले अल्पसंख्यक समुदाय के प्रतिनिधिमंडल ने उठाई आवाज

मंडी-मंडी शहर के बेघर व भूमिहीनों के लिए रिहायशी मकान बनाने को प्रशासन से मांग उठाई गई है। सोमवार को दलित, पिछड़ा एवं अल्पसंख्यक वर्ग के संयोजक चमन राही की अगवाई में शहर के बेघर व भूमिहीन लोग एडीएम श्रवण मांटा से मिले। इस दौरान प्रतिनिधिमंडल ने मांग उठाई कि मंडी शहर के भूमिहीनों व बेघर लोगों के लिए अतिशीघ्र रिहायशी मकान मुहैया करवाए जाएं। अल्पसंख्यक वर्ग के संयोजक चमन राही ने कहा कि मंडी शहर में दर्जनों परिवार बेघर व भूमिहीन हैं। उन्हांेने कहा कि उक्त वर्ग के लोग करीब 50 वर्ष से मंडी शहर में रह रहे हैं और शहर की सफाई व्यवस्था सहित अन्य कार्य को अंंजाम देते हैं, लेकिन उन्हें रिहायशी मकान न मिलने से वे झुग्गी-झोंपड़ी में रहने को विवश है। उन्होंने कहा कि भ्यूली में उक्त वर्ग के कुछ लोगों ने अपने स्तर पर सरकारी जमीन में रिहायशी मकान तो बना लिए हैं, लेकिन उन्हें अभी तक उनके नाम नहीं किया गया है। यही नहीं उक्त वर्ग के लोगों को सरकार द्वारा बिजली-पानी की सुविधा मुहैया करवाने सहित राशन कार्ड, वोटर कार्ड सहित अन्य सुविधा मुहैया करवाई गई है, लेकिन उन्हें न तो रिहायशी मकान मिल पाए हैं और न ही भूमि उपलब्ध करवाई है। चमन राही ने बताया कि उक्त मांग को लेकर प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर अवगत करवाया गया, जिसके चलते प्रधानमंत्री कार्यालय से हिमाचल प्रदेश राजस्व सचिव को मामले के निपटारे के निर्देश दिए गए हैं, जिसके चलते अब मंडी शहर के बेघर व भूमिहीन लोगों में आस बंधी है कि उन्हें जल्द ही मकान मिल जाएंगे। उन्हांेने कहा कि हिमाचल प्रदेश राजस्व सचिव द्वारा मंडी जिला प्रशासन को इस संबंध में आगामी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। इस संबंध में प्रतिनिधिमंडल ने एडीएम श्रवण मांटा को अवगत करवाया कि इस संबंध में अतिशीघ्र कार्रवाई अमल में लाई जाए। चमन राही ने कहा कि एडीएम ने इस संबंध में जल्द कार्रवाई का भरोसा दिलाया है। इस मौके पर अल्पसंख्यक विभाग कांग्रेस मंडी के अध्यक्ष सन्नी इप्पन,  झुग्गी-झोंपड़ी सभा के प्रधान खाना राम, सचिव लाल चंद, गुलाब चंद, राजू, दलीप और रमेश चंद सहित अनेक लोग मौजूद रहे।

 

You might also like