महाराष्ट्र-हरियाणा फिर भगवा

एग्जिट पोल्स ने दोनों राज्यों में भाजपा सरकारों के रिपीट होने का अनुमान, कांग्रेस की हालत पतली

नई दिल्ली   – महाराष्ट्र और हरियाणा दोनों राज्यों के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन को दो तिहाई से भी अधिक बहुमत के साथ दोबारा सत्ता मिलती दिख रही है। दोनों राज्यों में सोमवार को मतदान संपन्न होने के बाद विभिन्न टेलीविजन चैनलों के एग्जिट पोल में महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना गठबंधन को भारी जीत की संभावना व्यक्त की गई है, वहीं हरियाणा में भाजपा अपने बूते जोरदार जीत हासिल करने जा रही है। दोनों राज्यों में कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों को पिछड़ते दिखाया गया है। महाराष्ट्र की 288 सीटों में से सीएनएन/न्यूज-18 ने राजग को सर्वाधिक 243 सीटें दी हैं। इस चैनल ने कांग्रेस के नेतृत्व वाले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) को 41 और अन्य को चार सीटें मिलने की संभावना व्यक्त की है। टाइम्स नाऊ ने एनडीए को 230, यूपीए को 48 तथा अन्य को 10 सीटें दी हैं। रिपब्लिक टी वी ने एनडीए को 223, यूपीए को 54 एवं अन्य को 11 सीटें दी हैं। एबीपी न्यूज ने एनडीए को 204 और यूपीए को 69 तथा अन्य को 15 सीट मिलने का अनुमान व्यक्त किया है। इंडिया टुडे ने एनडीए को 166 से 194 , यूपीए को 70 से 90 और अन्य को 22 से 34 सीटें दी हैं। कमाल की बात है कि महाराष्ट्र में भाजपा और शिव सेना के बागियों को भी 20 से ज्यादा सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। इसके चलते भाजपा गठबंधन प्रदेश में डबल सेंचुरी बनाने से चूक गया। उधर, कहा यह भी जा रहा है कि कांग्रेस और एनसीपी के गठबंधन ने शरद पवार को सीएम कैंडिडेट के रूप में पेश किया होता, तो चुनाव परिणाम बदल भी सकते थे। उधर, हरियाणा की 90 सीटों में से इंडिया टीवी ने भाजपा को 73, कांग्रेस को 10 और अन्य को सात सीटें दी हैं। सीएनएन न्यूज-18 ने भाजपा को 75, कांग्रेस को 10 और अन्य को पांच सीट मिलने का अनुमान व्यक्त किया है। एबीपी न्यूज ने भाजपा को 72, कांग्रेस को आठ और अन्य को 10 सीटें दी हैं। टाइम्स नाऊ ने भाजपा को 71, कांग्रेस को 11 और अन्य को आठ सीटें दी हैं। रिपब्लिक टीवी ने भाजपा को 52 से 63 , कांग्रेस को 15 से 19 और अन्य 12 से 19 सीटें मिलने का अनुमान व्यक्त किया है। फिलहाल महाराष्ट्र में भाजपा और शिव सेना गठबंधन की सरकार है, जबकि हरियाणा में भाजपा अपने बूते सरकार चला रही है। हरियाणा की 90 सीटों पर नजर डालें तो साल 2014 में यहां भाजपा को 47, आईएनएलडी को 19 और कांग्रेस को 15 सीटें मिली थीं। महाराष्ट्र चुनाव की बात करें तो साल 2014 में भाजपा और शिवसेना ने यहां अलग-अलग चुनाव लड़ा था, जबकि इस बार दोनों पार्टियां गठबंधन का हिस्सा हैं। 2014 में 123 सीटें जीतकर भाजपा प्रदेश में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी, जबकि दूसरे स्थान पर शिवसेना थी, जिसे 63 सीटें मिली थीं। कांग्रेस ने 42 सीटें तो राकांपा ने 41 सीटें जीती थीं।

You might also like