शामलाघाट में दिव्यांगों की हिम्मत को सलाम

जिला भर से आए दिव्यांगों ने दिखाया हुनर, रेस प्रतियोगिता में स्मृति ने हासिल किया पहला स्थान

शिमला –समग्र शिक्षा के अंतर्गत जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान शिमला स्थित शामलाघाट में 21 और 22 अक्तूबर को दिव्यांग बच्चों के लिए दो दिवसीय खेलकूद प्रतियोगिता तथा फिजियोथैरेपी चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में जिला भर से लगभग 150 दिव्यांग  बच्चे, अभिभावक तथा अनुरक्षक अध्यापक आए,  प्रतियोगिता का उद्घाटन जिला परियोजना अधिकारी समग्र शिक्षा जय देव नेगी ने किया। जिला समन्वयक मंजीत सिंह ने समग्र शिक्षा की ओर से दी जा रही सुविधाओं के बारे में अभिभावकों को अवगत करवाया। प्रांगण में ही चिकित्सा शिविर का भी आयोजन किया गया, जिसमें सीआरसी सुंदरनगर से आए हुए फिजियोथेरेपिस्ट ने बच्चों को जांचा तथा इलाज किया। प्राथमिक चिकित्सा के लिए पीएचसी घणाहट्टी से डाक्टर शेफाली तथा फार्मासिस्ट की टीम मौके पर उपस्थित रही। जानकारी के अनुसार इस प्रतियोगिता में जहां एक ओर एथलेटिक्स, बैडमिंटन, बोची व पेंटिंग में प्रतिभागियों ने पुरजोर तरीके से भाग लिया, वहीं दूसरी ओर रंगारंग कार्यक्रमों का भी भरपूर आनंद उठाया। शारीरिक रूप से सक्षम 6 से 9 साल की लड़कियों के वर्ग की 100 मीटर रेस प्रतियोगिता में समृति ने प्रथम तथा बिन्नी, कुमकुम ने द्वितीय स्थान हासिल किया, 10 से 15 साल  में स्मृति ने प्रथम तथा जन्नत ने द्वितीय स्थान हासिल किया। इसी प्रतियोगिता में लड़कों के 6 से 9 साल के वर्ग में कार्तिक ने प्रथम और तरुण ने द्वितीय स्थान हासिल किया, 10 से 15 साल में विशाल ने प्रथम और हैप्पी ने द्वितीय  स्थान हासिल किया, 15  से 18 वर्ष की 100 मीटर मिक्स दौड़ में मेघा ने प्रथम तथा ओम प्रकाश ने द्वितीय स्थान हासिल किया। 18 साल से ऊपर के वर्ग में जितेंद्र तथा मित्तल ने प्रथम तथा द्वितीय स्थान हासिल किया। दृष्टि बाधित वर्ग में 6 से 9 साल में खुशबु ने प्रथम और अनिरुद्ध ने द्वितीय स्थान हासिल किया और लड़कों में नव्यांश ने प्रथम और निखिल ने द्वितीय स्थान हासिल किया, 10 से 15  साल के लड़कों में उत्कर्ष ने प्रथम और जतिन ने द्वितीय और लड़कियों में काजल ने प्रथम, तनीषा ने द्वितीय स्थान हासिल किया। 15  से 18 साल में शिवानी तथा रजनी ने प्रथम तथा द्वितीय और लड़कों में अक्षय तथा अमन दीप ने प्रथम तथा द्वितीय स्थान हासिल किया। श्रवण बाधित लड़कों के मिक्स वर्ग में नीरज ने प्रथम तथा तनवी ने द्वितीय स्थान हासिल किया। मानसिक रूप से सक्षम 6 से 9 साल की लड़कियों के वर्ग में जानवी ने प्रथम तथा महक ने द्वितीय स्थान, 10 से 15  साल  में ट्विंकल ने प्रथम तथा यशिता ने द्वितीय स्थान हासिल किया। लड़कों में 10 से 15 साल में पियूष ने प्रथम और प्रवीण ने द्वितीय, 18 साल से ऊपर अश्वनी प्रथम तथा पवन द्वितीय स्थान पर रहा।

You might also like