सरकारी कंपनियों की बंदरबांट कर रहे ‘बेचेंद्र’ मोदी

अर्थव्यवस्था पर राहुल गांधी का प्रधानमंत्री पर प्रहार, विनिवेश योजना पर शेयर किया कार्टून

नई दिल्ली – कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अर्थव्यवस्था को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर एक बार फिर निशाना साधा है। राहुल ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री को बेचेंद्र (बेचने वाला) मोदी करार दिया। उन्होंने ट्वीट में एक कार्टून भी अटैच किया। राहुल की टिप्पणी उस रिपोर्ट के बाद आई है, जिसमें कहा गया था कि भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) के प्रस्तावित निजीकरण के विरोध में कर्मचारी हड़ताल की योजना बना रहे हैं। पिछले हफ्ते कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया था कि वह बीपीसीएल को चुपके से और संसद से प्रस्ताव पारित कराए बगैर बेचना चाहती है। इस तरह की आर्थिक नीतियों का कोई मतलब नहीं है। सरकार ने पांच प्रमुख पीएसयू (पब्लिक सेक्टर यूनिट्स) में विनिवेश से 1.05 लाख करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी कर ली है। केंद्र सरकार ने भारत पेट्रोलियम, शिपिंग कारपोरेशन ऑफ  इंडिया, कंटेनर कारपोरेशन, नॉर्थ ईस्टर्न इलेक्ट्रिक पावर कारपोरेशन लिमिटेड व टीएचडीसी इंडिया के शेयर बेचने की अनुमति दे दी है। सरकार सिर्फ घाटे में चल रही कंपनियों में विनिवेश नहीं कर रही। शुरुआती जिन पांच कंपनियों बीपीसीएल, कॉनकोर, सीएसआईए,नीपको और टीएचडीसी को विनिवेश के लिए चुना गया है, इनमें से तीन लाभ में चल रही हैं। अकेले बीपीसीएल का वर्ष 2018-19 का मुनाफा सात हजार करोड़ रुपए से अधिक रहा है।

कितनी हिस्सेदारी बेची जा रही

पीएसयू                      शेयर

भारत पेट्रोलियम       53.29%

शिपिंग कारपोरेशन    63.75%

कंटेनर कारपोरेशन   30.00%

एनई पावर कार्पो.     100%

टीएचडीसी इंडिया     75.00%

You might also like