सीरीज कब्जाने को हैं तैयार

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरा टेस्ट आज से पुणे में, 1-0 से आगे है टीम इंडिया

पुणे – भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच गुरुवार से तीन मैचों की टेस्ट सीरीज का दूसरा मुकाबला पुणे में खेला जाएगा जहां भारतीय टीम की नजरें मुकाबला जीत सीरीज अपने नाम करने पर लगी होंगी। भारत ने विशाखापट्टनम में खेले गए पहले मैच में दक्षिण अफ्रीका की टीम को 203 रन के बड़े अंतर से हराकर सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर ली थी और अब वह यहां होने वाले दूसरे मुकाबले में भी अपना प्रदर्शन बरकरार रख मैच तथा सीरीज जीतने के इरादे से मैदान में उतरेगी। भारत के लिए सकारात्मक बात है कि उसके दोनों सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा और मयंक अग्रवाल ने पहले मुकाबले बेहतरीन प्रदर्शन किया था, विशेषकर रोहित ने जो अपने टेस्ट करियर में पहली बार सलामी बल्लेबाज के तौर पर बल्लेबाजी करने उतरे थे। रोहित ने पहली पारी में 176 और दूसरी पारी में 127 रन बनाए थे जबकि मयंक ने पहली पारी में 215 रन बनाकर अपने टेस्ट करियर का पहला अंतरराष्ट्रीय दोहरा शतक भी जड़ा था। दोनों बल्लेबाजों के बीच पहले मैच की पहली पारी में 317 रनों की पहाड़ जैसी साझेदारी हुई थी, जिसकी बदौलत भारत ने मैच में शुरुआत से ही अपना पलड़ा भारी कर लिया था। भारत को दूसरे मुकाबले में एक बार फिर अपनी सलामी जोड़ी से ऐसे ही प्रदर्शन की उम्मीद होगी जिससे वह मेहमान टीम पर शुरुआत से ही पकड़ मजबूत रखे और उसके गेंदबाजों पर दबाव बनाए। भारतीय टीम को हालांकि मध्यक्रम में थोड़ी सावधानी बरतनी होगी। पहले मुकाबले की पहली पारी शीर्ष क्रम की मजबूत साझेदारी के बाद मध्क्रम लड़खड़ा गया था, लेकिन टीम के लिए राहत की बात है कि चेतेश्वर पुजारा, जो पहली पारी में नाकाम रहे थे और उन्होंने दूसरी पारी में अपनी फॉर्म वापस हासिल की और 81 रनों की महत्त्वपूर्ण पारी खेली। कप्तान विराट कोहली, अजिंक्या रहाणे, हनुमा विहारी और विकेटकीपकर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा को भी मध्यक्रम में अपनी भूमिका अदा करनी होगी। गेंदबाजी भारतीय टीम का मजबूत पक्ष रहा है और पहली पारी में जिस तरह ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने अपनी फिरकी के जादू में दक्षिण अफ्रीका की टीम को बांधा उससे भारतीय गेंदबाजी और मजबूत दिखाई दे रही है, जबकि दूसरी पारी में तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने पांच विकेट निकालकर मेहमान टीम की कमर तोड़ दी थी, जिससे भारतीय टीम ने एकतरफा अंदाज में यह मुकाबला जीत लिया था। भारतीय गेंदबाजों के इस प्रदर्शन की टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने भी जमकर सराहना की थी और यहां तक कह दिया था कि टीम को मनमुताबिक पिच की जरुरत नहीं है, क्योंकि भारत के तेज गेंदबाज किसी भी पिच पर अपना जलवा बिखेरने का माद्दा रखते हैं। दक्षिण अफ्रीका के पास सीरीज बचाने का यह अंतिम मौका है।

रोहित शर्मा के बारे में ज्यादा न सोचें

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा के लिए कहा है कि उन्हें अपने खेल पर ध्यान केंद्रित करने दें और इस बारे में ज्यादा चर्चा नहीं करें कि वह टेस्ट में क्या करेंगे। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच से पहले पत्रकारों से बात करते हुए कप्तान ने बुधवार को कहाकि रोहित को आराम करने दीजिए। आपको पता है कि वह अच्छा कर रहे हैं और उन्हें उनकी बल्लेबाजी का आनंद लेने दीजिए जैसा कि वह सीमित ओवर में करते हैं। इस बात पर ध्यान केंद्रित नहीं करें कि वह टेस्ट में क्या करेंगे। विराट ने कहा कि मेरे ख्याल से वह काफी अच्छा खेल रहे हैं। पहले मैच में वह काफी सहज लग रहे थे और उन्हें ऐसे देखना काफी संतोषजनक था, जो अनुभव इतने वर्षों से उन्हें मिला है, वह इसका पूरा फायदा उठा रहे हैं।

पांचों दिन बारिश की भविष्यवाणी

विशाखापट्टनम में पांचों दिन बारिश की भविष्यवाणी थी, लेकिन मौसम लगभग साफ रहा था। कुछ ऐसी ही भविष्यवाणी पुणे के लिए भी है, लेकिन उम्मीद की जानी चाहिए कि मौसम मैच की रास्ते की बाधा नहीं बनेगा।

टीम में कोई स्वार्थी नहीं

पुणे – भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली इस बात से खुश है कि टीम के खिलाडि़यों ने ‘निस्वार्थ रवैया’ अपनाया है और ‘उनकी सोच में लचीलापन’ है,  जिससे तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी के खेल में बदलाव आया और कुलदीप यादव को पता है कि वह टीम से क्यों बाहर हुए है। कभी चोटों से परेशान रहने वाले शमी ने सपाट पिच पर धारदार गेंदबाजी की, जिससे कप्तान काफी प्रभावित है। कोहली ने दूसरे टेस्ट की पूर्व संध्या पर बुधवार को यहां कहा कि अब (वह) अधिक जिम्मेदारी के साथ खेल रहे हैं। हमें अब कुछ बताने की जरूरत नहीं होती। हमें अब यह कहने की जरूरत नहीं होती आपको हमारे लिए यह स्पैल डालना होगा। वहीं, युवा चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यह सोच रहे होंगे कि अपने पिछले टेस्ट (आस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी में) में पांच विकेट लेने के बाद भी वह टीम से बाहर क्यों हैं। कप्तान ने हालांकि कहा कि कुलदीप को पता है कि उन्हें अंतिम 11 में जगह क्यों नहीं मिली। टीम में कोई भी स्वार्थी नहीं है और हर कोई यह सोचता है कि वह टीम के लिए क्या कर सकता है। कुलदीप के बारे में भी ऐसा ही है। वह समझता है कि भारत में खेलते समय अश्विन और जडेजा हमारी पहली पसंद होंगे, क्योंकि वे बल्ले से भी योगदान देने में सक्षम हैं। कोहली ने कहा कि हमारा सिर्फ एक मकसद होता है, जो कि ज्यादा से ज्यादा मैच जीतने का है। हम ऐसा करने में कामयाब रहे है।

You might also like