सुबह-शाम गर्म कपड़ों की तलाश

बारिश-बर्फबारी के बाद कोट-स्वेटर पहनने लगे कुल्लूवासी, जलने लगे तंदूर

भुंतर –ऊंची चोटियों पर हाल ही में हुई बर्फबारी और निचले इलाकों मंे बारिश की बौछारों ने जिला कुल्लू में ठंडक एकाएक बढ़ा दी है। बारिश के बाद भुंतर-बजौरा सहित अन्य स्थानों का पारा गिरने लगा है और लोगों को गर्म कपड़ों को पहनने का सिग्नल मिल गया है। घाटी में अब दिन के समय सूर्य की तेज तपिश व सुबह-शाम ठंड की बयार बहने लगी है। मौसम का मिजाज धीरे-धीरे ठंड को बढ़ाने लग गया है। लिहाजा, सुबह-शाम लोगों को गर्म कपड़े कोट-स्वेटर पहनने पर मजबूर होना पड़ रहा है और यह सिलसिला अब आने वाले पांच माह तक चलेगा। बता दें कि कुछ दिन पहले घाटी की पहाडियों पर बिछी हल्की बर्फ और निचले इलाकों में हुई बारिश के कारण चलने वाली हवाएं अब ठंड का एहसास करवाने लगी हैं।  दूसरी ओर जिस धूप से लोग गर्मियों में छांव की तलाश में रहते थे, अब वही धूप ठंड से राहत दिला रही है। इसके अलावा घाटी के ऊंचे पहाड़ोें में बर्फबारी के बाद सर्द ऋतु का आधिकारिक आगमन भी हो गया है, जिससे लोग अब सर्दी से बचने के लिए लकड़ी इत्यादि का भंडारण करने में भी लग गए हैं। मलाणा सहित कई अन्य स्थानों मंे लोग सर्दियों के लिए लकडि़यों को इकट्ठा करने के काम में जुट गए हैं तो दूसरे इंतजाम भी कर रहे हैं। जिस तरह से घाटी में मौसम का मिजाज नित सुबह-शाम ठंड की बिसात लिए हुए है, उससे घाटी के सर्द ऋतु के लिए लकड़ी इत्यादि का इंतजाम करने में लग गए हैं। घाटी में जैसे ही सूर्यदेव की किरणें शाम के समय दूर होती हैं, वैसे ही मंद-मंद हवाओं का स्पर्श सर्द ऋतु के प्रारंभ होने का एहसास करा रहा है। घाटी के लोगों के पिछले छह महीनों में बंद पड़े ऊनी वस्त्रों सहित कंबलों को धूप में सुखाने का कार्य भी हर घर में देखा जा रहा है। दूसरी ओर बागबानी कार्यों को निपटाने के बाद किसान-बागबान सर्दी के आगाज की पूरी तैयारी कर उससे बचने की सारे प्रबंधों को करने में लग गए हैं। जानकारी के अनुसार पार्वती घाटी के मलाणा, बरशैणी, तोष सहित अन्य उंचे ईलाकों में तंदूर जलने भी आरंभ हो गए हैं। मौसम विभाग ने आने वाले दिनों में फिर से बारिश और हिमपात की आशंका जताई है। ऐसे में ठंड और ज्यादा होने वाली है।

ढालपुर में सर्दियों के लिए खरीददारी

जिला मुख्यालय कुल्लू में दशहरा उत्सव के तहत कारोबार सजा हुआ है और कुल्लू सहित मंडी, लाहुल-स्पीति के लोग यहां पर गर्म कपड़ों की खरीददारी में जुटे हैं। लोगों के अनुसार इस बार ज्यादा ठंड की संभावना है और ऐसे में सर्दी से निपटने के लिए कपड़ों को यहां खरीदा जा रहा है।

You might also like