सोशल मीडिया पर रची साजिश

कमलेश तिवारी हत्याकांड में बड़ा खुलासा, हत्यारे फेक आईडी से करते थे बातें

लखनऊ –कमलेश तिवारी हत्याकांड में लगातार नए खुलासे हो रहे हैं। अब इस केस में सोशल मीडिया के जरिए दोस्ती करने और मीटिंग फिक्स करने की बात भी सामने आई है। यूपी पुलिस ने इस केस के तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर केस का पहले ही खुलासा कर दिया था, लेकिन अब पता चला है कि इनमें से एक आरोपी अशफाक ने सोशल मीडिया पर रोहित सोलंकी के नाम से आईडी बनाई थी। इस आईडी के जरिए ही रोहित बने अशफाक ने कमलेश तिवारी से संपर्क साधा था। कमलेश तिवारी उसके सोशल मीडिया फ्रेंड बन गए थे। वह अपने छ्द्मनाम रोहित से ही कमलेश से चैट किया करता था। रिपोर्ट्स के मुताबिक सोशल मीडिया पर बातचीत के दौरान ही उसने कमलेश से मुलाकात का वक्त मांगा था। इससे साफ है कि हिंदू समाज पार्टी के संस्थापक कमलेश की हत्या की प्लानिंग बीते कई महीनों से चल रही थी। रोहित सोलंकी के नाम से बनी आईडी से पता चलता है कि इसी साल 16 मई को अशफाक ने इसे बनाया था।

परिवार ने हत्यारे के लिए मांगी फांसी

लखनऊ। कमलेश तिवारी हत्याकांड में एक तरफ जहां पुलिस आरोपियों की धरपकड़ में जुटी है, वहीं दूसरी तरफ लखनऊ में पीडि़त परिवार ने सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। इस दौरान परिवारवालों ने हत्यारों के लिए फांसी की सजा की मांग की। हालांकि पीडि़त परिवार ने बाद में आरोप लगाए कि उन्हें जबरदस्ती आरोपी से मिलवाने के लिए लाया गया था।

होटल के कमरे से खून से सना भगवा रंग का कुर्ता बरामद

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के एक होटल के कमरे से रविवार को पुलिस ने हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी के हत्यारों के भगवा रंग के खून लगे कुर्ते समेत कुछ अन्य सामान बरामद किए। पुलिस ने कहा कि कैसरबाग इलाके के होटल खालसा इन के एक कमरे से खून लगे भगवा रंग के कुरते और शेविंग किट समेत कुछ अन्य सामान बरामद किए गए हैं।

You might also like