हरियाणा में फिर खट्टर राज

राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने दिलाई मुख्यमंत्री-उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला को शपथ

चंडीगढ़  – हरियाणा की 14वीं विधानसभा के लिए 65 साल के मनोहर लाल खट्टर ने दूसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उनके साथ 31 साल के जेजेपी अध्यक्ष दुष्यंत चौटाला ने भी उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली। हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने दोनों को शपथ दिलाई। नई सरकार में भाजपा को जेजेपी और सात निर्दलीय विधायकों ने समर्थन दिया है। मंत्रियों का शपथ ग्रहण दिवाली के बाद होगा। खट्टर के शपथ ग्रहण में शामिल होने के लिए भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह , कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल व उनके बेटे सुखबीर बादल भी पहुंचे। इसके अलावा चौटाला परिवार से नैना चौटाला, दुष्यंत की पत्नी मेघना भी कार्यक्रम में मौजूद रहीं। दुष्यंत के पिता अजय सिंह भी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए। 21 अक्तूबर को हुए हरियाणा विधानसभा चुनाव के 24 अक्तूबर को परिणाम आए थे। इसमें भाजपा ने 40 सीटें हासिल की थी। सरकार बनाने के लिए उन्हें 46 विधायकों की जरूरत थी। सात निर्दलीय विधायकों समेत हरियाणा लोकहित पार्टी के गोपाल कांडा ने भाजपा को समर्थन देने की घोषणा की। रातों-रात कई विधायक दिल्ली स्थित हरियाणा भवन पहुंच भी गए थे। इसी बीच अमित शाह से मुलाकात के बाद जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला ने भाजपा को समर्थन देने की बात कही। शुक्रवार देर रात भाजपा ने जेजेपी और निर्दलीय विधायकों के साथ मिलकर सरकार बनाने का ऐलान कर दिया। जीत के बाद गोपाल कांडा ने भाजपा को समर्थन देने का ऐलान किया, तो सोशल मीडिया से लेकर आम लोगों के बीच चर्चा तेज हो गई।

जेजेपी बोली, हर वर्ग को साथ लेकर चलेंगे

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हरियाणा में अब विकास के नए युग की शुरुआत हुई है। राज्य में भारतीय जनता पार्टीऔर जननायक जनता पार्टी की सरकार के गठन से परिर्वतन और विकास की मजबूत नींव रखी गई है। अनुभव और युवा जोश मिलकर प्रदेश में नया परिवर्तन लाएंगे। उन्होंने कहा कि इस नई जिम्मेवारी के साथ-साथ उन्हें एक ताकत मिली है और वह हर वर्ग को साथ लेकर चलेंगे। दुष्यंत चौटाला उपमुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद सिरसा बरनाला रोड स्थित रविवार रात अपने आवास पर पहुंचे। उनके साथ जेजेपी के संरक्षक और उनके पिता डा. अजय चौटाला भी थे। उनके यहां पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने फूल मालाओं से उनका जोरदार स्वागत किया। कार्यकर्ताओं ने दुष्यंत के समर्थन में जमकर नारे लगाए। इसके बाद वह सोमवार को समर्थकों से रू-ब-रू हुए। इस मौके पर उन्होंने कार्यकर्ताओं के साथ आगामी रणनीति के बारे में चर्चा की। बता दें कि विधानसभा चुनाव में जेजेपी ने 10 सीटों पर जीत दर्ज की है। भाजपा को 40 सीटें मिलीं। विधानसभा की 90 सीटों में सरकार बनाने के लिए 46 का आंकड़ा चाहिए। ऐसे में जेजेपी ने आगे आकर भाजपा को समर्थन दिया है।

You might also like