हिमाचल के हाईवेज़ की कंडीशन खराब

प्रदेश सरकार ने एनएचएआई को बताई दिक्कतें, अलाइनमेंट रिपोर्ट के लिए भी मांगी मंजूरी

शिमला – केंद्र सरकार द्वारा हिमाचल के लिए घोषित किए गए नेशनल हाई-वे को मूर्तरूप देने के लिए प्रदेश सरकार ने नेशनल हाई-वे अथॉरिटी से मुद्दा उठाया है। एनएचएआई के चेयरमैन से जहां यहां के खस्ताहालत नेशनल हाई-वे का मामला उठाया गया है, वहीं घोषित एनएच में से 58 सड़कों की अलाइनमेंट रिपोर्ट को मंजूरी देने की भी मांग की है। यहां मुख्य सचिव डा. श्रीकांत बाल्दी ने नेशनल हाई-वे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के चेयरमैन नागेंद्र नाथ सिन्हा से मामले उठाए। वह शिमला में हैं, जिनके साथ बैठक हुई है। बताया जाता है कि इसके बाद एनएचएआई के चेयरमैन का शिमला में एक्सीडेंट हो गया, जिसमें वह घायल हुए और उन्हें आईजीएमसी में भर्ती करवाया गया है। प्रदेश सरकार के अधिकारियों ने वहां उनका कुशलक्षेम जाना। उनके साथ हुई चर्चा के दौरान लंबित पड़ी 58 सड़कों की अलाइनमेंट रिपोर्ट को लेकर बात हुई, जिसे अभी तक अथॉरिटी की मंजूरी नहीं मिल पाई है। प्रदेश सरकार ने इसे जल्द मंजूरी देने का आग्रह किया, ताकि इन सड़कों को एनएच बनाया जा सके। अलाइनमेंट रिपोर्ट को केंद्र की मंजूरी के बगैर एनएच नहीं बनाया जा सकता। बता दें कि यहां केंद्र सरकार ने वर्ष 2014 में 69 एनएच बनाने की घोषणा की थी, जिसमें से 58 सड़कों की अलाइनमेंट रिपोर्ट तैयार कर केंद्र सरकार को भेजी गई है। इस घोषणा के अनुरूप अभी तक एक भी एनएच अधिसूचित नहीं किया जा सका है, जो यहां राजनीतिक मुद्दा भी बना हुआ है। पूर्व सरकार ने इन नेशनल हाई-वे की डीपीआर के लिए कंसल्टेंट नहीं लगाए जा सके, जिस काम को वर्तमान सरकार ने तेजी के साथ किया है। सरकार ने एनएच अथॉरिटी के साथ राज्य में नेशनल हाई-वेज की खस्ता स्थिति पर भी चिंता जताई।

एनएचएआई की कार्यप्रणाली से संतुष्ट नहीं मुख्य सचिव

मुख्य सचिव ने कहा कि प्रदेश के राष्ट्रीय राजमार्गों की मरम्मत के लिए केंद्र से पर्याप्त बजट नहीं मिल रहा है, लिहाजा इसे सुनिश्चित किया जाए। मुख्य सचिव ने एनएचएआई की कार्यप्रणाली पर असंतोष जाहिर किया। उन्होंने कहा कि बजट न मिलने से प्रदेश की लाइफ.लाइन समझी जाने वाली सड़कों की हालत बहुत दयनीय हो गई है। एनएच पर जगह-जगह गड्ढे पड़े हैं, जिस कारण पहाड़ों पर सफर और जोखिम भरा हो गया है।

शुरू करें फोरलेन का काम

हिमाचल सरकार ने 2018 से बंद पड़े कीरतपुर-नेरचौक सड़क की फोरलेनिंग कार्य जल्द शुरू करने, नेरचौक-पंडोह परियोजना में 26.29 किलोमीटर कार्य में तेजी लाने, पिंजौर-बद्दी-नालागढ़ फोरलेन के बंद पड़े काम शुरू करने की मांग भी एनएचएआई चेयरमैन से उठाई है।

You might also like