हिमाचल फिर उठाएगा बीबीएमबी का मुद्दा

गुजरात में मिनिस्टर कान्फे्रंस में प्रधान सचिव ऊर्जा करेंगे चर्चा

शिमला – गुजरात के बड़ोदा में शुक्रवार से पावर मिनिस्टर कान्फ्रेंस शुरू होने जा रही है। इस सम्मेलन में हिमाचल से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को जाना था, मगर वह जान नहीं सके, क्योंकि यहां पर उपचुनाव की पूरी जिम्मेदारी उन पर है। लिहाजा वह इसे छोड़कर इस सम्मेलन में शामिल होने नहीं गए। उनकी जगह पर प्रधान सचिव ऊर्जा प्रबोध सक्सेना वहां हिमाचल का पक्ष रखेंगे। साथ में बिजली बोर्ड के प्रबंध निदेशक जेपी काल्टा भी इस सम्मेलन में शिरकत करेंगे। हिमाचल प्रदेश इस बार भी बीबीएमबी से जुड़े मामले को वहां पर उठाएगा, क्योंकि इस मामले में अभी तक हिमाचल को राहत नहीं मिल पाई है। लिहाजा ऊर्जा मंत्रियों के सम्मेलन में दोबारा इस पर बात होगी। बताते हैं कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के भाषण की प्रति वहां पर रखी जाएगी, जिसमें बीबीएमबी से जुड़े मामले को उठाया जाएगा। इसके अलावा केंद्रीय योजनाओं में हिमाचल को मिल रही कम हिस्सेदारी और समय पर बजट का प्रावधान करने को लेकर भी मामला उठाया जाएगा। हिमाचल प्रदेश ने उदय योजना को लागू किया है, जिसके तहत केंद्र सरकार को प्रदेश को अतिरिक्त वित्तीय सहायता प्रदान करनी है, मगर समय पर यह राशि नहीं मिल पा रही है। इस कारण यहां केंद्रीय योजनाओं को आगे बढ़ाने में दिक्कत हो रही है। ऊर्जा मंत्रियों के इस सम्मेलन में जो मामले पहले उठ चुके हैं, उनकी कार्य प्रगति को लेकर भी वहां पर पूछा जाएगा। हिमाचल प्रदेश परियोजनाओं को वन एवं पर्यावरण मंत्रालय से मंजूरी नहीं मिलने का अहम मसला भी इस सम्मेलन में उठाएगा, जिसकी वजह से प्रदेश की 700 से अधिक परियोजनाएं  लंबित पड़ी हुई हैं। इन प्रोजेक्ट्स को मंजूरियां हासिल नहीं होने के चलते यहां पर ऊर्जा क्षेत्र में पूरी तरह से डाउनफॉल आ चुका है।

You might also like