अवैध कब्जे करने वालों पर करो कार्रवाई

जिलाधीश राजेश्वर गोयल ने मीटिंग में दिए निर्देश, इंतकाल-निशानदेही के मामलों को जल्द निपटाएं

बिलासपुर – उपायुक्त राजेश्वर गोयल ने राजस्व अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि जिला में इंतकाल तथा निशानदेही से संबंधित लंबित मामलों का निपटारा विशेष अभियान चलाकर करना सुनिश्चित करें। उपायुक्त ने यह निर्देश जिला के समस्त एसडीएम तथा राजस्व अधिकारियों की राजस्व मामलों की प्रगति समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए दिए। उन्होंने कहा कि राजस्व विभाग सीधे तौर पर लोगों के साथ जुड़ा हुआ विभाग है। राजस्व अधिकारियों व कर्मचारियों को अपने कार्यों में दक्षता लाते हुए लोगों को बेहतरीन सेवाएं प्रदान कर उनकी समस्याओं का तुरंत निपटारा सुनिश्चित करना चाहिए, ताकि लोगों को तुरंत लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि राजस्व अधिकारी अपनी सेवाओं में गुणवत्ता लाते हुए लोगों को समयबद्ध व प्राथमिकता के आधार पर त्वरित सेवाएं उपलब्ध करवाएं, ताकि लोगों को राजस्व सेवाओं के लिए बार-बार कार्यालय के चक्कर न काटने पड़े। उन्होंने समस्त एसडीएम को निर्देश दिए कि जिला में अवैध कब्जों पर कड़ी नजर रखें तथा इन कब्जों के निपटारे के लिए प्राथमिकता से विशेष कदम उठाएं। उन्होंने सभी अधिकारियों को मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन से संबंधित शिकायतों का समयबद्ध निपटारे के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राजस्व अधिकारियों को राजस्व कार्यों को प्राथमिकता देते हुए निर्धारित लक्ष्यों को समयबद्ध तरीके से पूरा करना चाहिए, ताकि लोगों को त्वरित न्याय मिल सके। उन्होंने कहा कि इससे जहां उनकी कार्यकुशलता बढ़ेगी, वहीं कार्यप्रणाली में पारदर्शिता भी आएगी। उन्होंने राजस्व अधिकारियों को वसूली मामलों में तेजी लाने, जमाबंदी, सीमांकन व इंतकाल आदि मामलों को समयबद्ध निपटाने के भी निर्देश दिए। इस मौके पर विभिन्न राजस्व मामलों को तेजी से निपटाने पर भी विचार-विमर्श किया गया। उन्होंने समस्त राजस्व अधिकारियों से कहा कि लंबित पड़े मामलों को प्राथमिकता के आधार पर निपटाएं। उन्होंने कहा कि अधिकारी अपने-अपने कार्यालय, पटवार तथा कानून सर्किल का समय-समय पर निरीक्षण करना सुनिश्चित करें। इस अवसर पर सहायक आयुक्त सिद्धार्थ आचार्य, एसडीएम घुमारवीं शशिपाल शर्मा, एसडीएम झंडूता विकास शर्मा, एसडीएम स्वारघाट सुभाष गौतम, जिला राजस्व अधिकारी देवी राम समस्त तहसीलदार के अतिरिक्त अन्य राजस्व विभाग के अधिकारी तथा कर्मचारी भी उपस्थित रहे।

You might also like