अवैध निर्माण पर जारी होंगे नोटिस

शिमला – राजधानी में रातो रात बनीं अवैध दुकानों को नगर निगम ने हटा दिया है। साथ ही शहर में तहबाजारियों पर लगाम लगाने के लिए सख्त कार्रवाई अमल में लाई जा रही है। साथ ही शहर में फिर कोई इस तरह से अवैध निर्माण न कर सके इसके लिए निगम जल्द सख्त नियम बनाने वाला है। गौर रहे कि शहर के रामबाजार में अवैध निर्माण किया गया था, जिसे निगम ने तोड़ दिया है। इस मामले में नगर निगम प्रशासन अवैध रूप से निर्माण करने वाले लोगों को कारण बताओ नोटिस देने जा रहा है। जिसके लिए निगम द्वारा अवैध निर्माण करने वालों से लिखित में जवाब मांगा जाएगा। बता दें कि नगर निगम ने इस एरिया में हुए अवैध निर्माण को तो तोड़ दिया है, लेकिन अभी तक किसी अधिकारी या कर्मचारी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है। उधर पार्षदों समेत खुद नगर निगम के कर्मचारी भी जिम्मेदार अधिकारियों को बचाने पर निगम प्रशासन पर सवाल उठा रहे हैं। इस एरिया में तैनात एपी शाखा के कनिष्ठ अभियंता करीब पांच साल से इन्हीं वार्डों का जिम्मा संभाल रहे हैं। कनिष्ठ कनिष्ठ अभियंता का काम फील्ड में जाकर हो रहे निर्माण को चेक करना है कि यह वैध है या अवैध। लेकिन रामबाजार, लोअर बाजार और रिज पर कई जगह अवैध ढारे बनने के महीनों बाद इन पर कार्रवाई हो रही है। हालांकि कार्रवाई में देरी का एक कारण एपी शाखा में जेई की कमी भी है।

You might also like