आंदोलन के बहाने कांग्रेस में सियासी जंग

रजनी पाटिल बोलीं, झगड़ा पैदा करने वालों की पार्टी में जरूरत नहीं

शिमला – महंगाई के खिलाफ शुरू किए आंदोलन के बहाने कांग्रेस में ही सियासी जंग छिड़ गई है। हालांकि गुरुवार को शिमला में महंगाई के खिलाफ कांगे्रस का आंदेलन था, लेकिन प्रदेश प्रभारी रजनी पाटिल ने पार्टी के उन नेताओं को सख्त नसीहत दे दी जो संगठन में झगड़ा पैदा करते हैं। रजनी पाटिल ने कहा है कि कांग्रेस को उन नेताओं की कोई जरूरत नहीं है, जो पार्टी के भीतर झगड़ा फैलाते हैं। पार्टी ने सब नेताओं को पूरा मान-सम्मान दिया है, फिर भी अगर कोई आपस मे मतभेद पैदा करने की कोशिश करता है, तो उसको पार्टी से बाहर कर दिया जाना चाहिए। इस दौरान रजनी पाटिल ने केंद्र की मोदी और प्रदेश की जयराम सरकार के खिलाफ जमकर हल्ला बोला। उन्होंने कहा कि आज देश में जीडीपी की दर पांच प्रतिशत पर पहुंच गई है, जो चिंता का विषय है। अगर हमने जनविरोधी नीतियों के खिलापु अभी आवाज नहीं उठाई, तो आने वाली पीढ़ी हमें कभी माफ  नहीं करेगी। रजनी पाटिल ने कहा कि प्रदेश के विकास में पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह का एक विशेष योगदान है। इसका श्रेय भाजपा कभी नहीं ले सकती। उन्होंने कहा कि धर्मशाला में आयोजित इन्वेस्टर्स मीट फ्लॉप साबित हो चुकी है। इसके आयोजन में इन्वेस्टर्स को गुमराह कर बुलाया गया था। इस दौरान प्रदेश पर्यवेक्षक नाना पटोले ने कहा कि राष्ट्रवाद का झूठा सपना दिखा कर सत्ता में आई मोदी सरकार ने देश को गुमराह किया।

राठौर ने खोला मोर्चा

कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था दिनों दिन बिगड़ती जा रही है। महिलाओं पर अत्याचार बढ़ हैं। नशे पर कोई लगाम नहीं लग रही। कांग्रेस की जिला बार विरोध रैलियां सफल रही हैं। राठौर ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार बदले की भावना से काम कर रही है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी प्रियंका गांधी की विशेष सुरक्षा को हटा कर मोदी सरकार ने अपनीघटिया मानसिकता का परिचय दिया है। अगर उनके नेताओं का बाल भी बांका हुआ तो कांग्रेस उनका जीना हराम कर देगी।

राजनेताओं पर अफसरशाही हावी

नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने प्रदेश सरकार को हर मोर्चे पर विफल करार दिया। उन्होंने कहा कि इन्वेस्टर्स मीट में इसकी विफलता साफ  है। प्रधानमंत्री के समक्ष वह अपना मुद्दा प्रमुखता से नहीं रख पाए। प्रधानमंत्री दो बार प्रदेश के दौरे पर आए, लेकिन दोनों बार उन्होंने लोगों को निराश किया।

You might also like