कल से नशे के खिलाफ जंग छेड़ेगा ऊना

 15 नवंबर से 15 दिसंबर तक चलेगा अभियान, प्रशासन ने कसी कमर

ऊना –जिला में लगातार बढ़ रहे नशे की प्रवृति पर लगाम लगाने के लिए अब जिला प्रशासन की ओर से कमर कस ली गई है। जिला प्रशासन नशे के दुष्प्रभावों को लेकर आम जनता को जागरूक करने के लिए 15 नवंबर से 15 दिसंबर तक विशेष अभियान चलाएगा। हर सरकारी विभाग के साथ ही शैक्षणिक संस्थानों में नशे के खिलाफ गतिविधि होगी, ताकि युवा पीढ़ी को भी जागरूक किया जा सके। बुधवार को ऊना में आयोजित प्रेसवार्ता के दौरान उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री स्वयं नशे के खिलाफ सड़कों पर उतरे हैं। इसके चलते अब ऊना में भी विशेष अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी विभागों को निर्देश दिए गए हैं कि नशे के बढ़ते दुष्प्रभावों के बारे में लोगों को जागरूक किए जाएं। उन्होंने कहा कि इस अभियान को सफल बनाने में आम लोगों की भी भागीदारी होगी। उन्होंने कहा कि किसी व्यक्ति को यदि नशे के कारोबारी की जानकारी हो या फिर कोई नशा कर रहा हो तो उसकी जानकारी तुरंत पुलिस को दें, ताकि तुरंत कार्रवाई की जा सके। उन्होंने कहा कि युवाओं को नशे की लत से बचाने के लिए हर वर्ग को अपनी भूमिका निभानी होगी। उपायुक्त ने कहा कि जिला में चल रहे नशा मुक्ति केंद्रों का भी जल्द ही निरीक्षण किया जाएगा। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग को उचित निर्देश दिए जाएंगे, ताकि नशा मुक्ति केंद्रों की गतिविधियों का भी पता चल सके। उन्होंने कहा कि नशे के खिलाफ विशेष अभियान के तहत 15 दिसंबर का दिन अहम होगा। इस दिन पंचायत स्तर पर होने वाली ग्राम सभाओं में चर्चा होगी। इसके माध्यम से लोगों को जागरूक किया जाएगा। उन्होंने सभी लोगों से आह्वान किया है कि इस अभियान से बढ़-चढ़कर भाग लें।

 प्रशासन और प्रेस में क्रिकेट मैच भी होगा

नशे के खिलाफ आम लोगों को जागरूक करने के लिए जिला प्रशासन और प्रेस क्लब की टीम के बीच क्रिकेट मैच भी खेला जाएगा। इसके लिए प्रशासन की ओर से प्रेस क्लब को आमंत्रित किया गया है, ताकि क्रिकेट मैच के द्वारा भी नशे के खिलाफ लोगों को जागरूक किया जाए। इस विशेष अभियान के तहत क्रिकेट मैच के द्वारा भी लोगों को जागरूक किया जाएगा। सुविधा नहीं है तो शीघ्र करें संपर्क उपायुक्त संदीप कुमार ने कहा है कि यदि किसी व्यक्ति के पास एलपीजी कनेक्शन नहीं है। या फिर बिजली कनेक्शन नहीं है। इसके अलावा यदि शौचालय की सुविधा नहीं है, तो इस तरह के लोग जिला प्रशासन से संपर्क कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि इन समस्याओं का प्राथमिकता के आधार पर समाधान किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि शौचालयों की समस्या को लेकर शिक्षा उपनिदेशकों को भी निर्देश दिए गए हैं कि इस बारे में बच्चों को भी जागरूक किया जाए। यदि कोई बच्चा इस तरह की समस्या को बताता है तो प्रशासन को सूचित करें, ताकि इस समस्या का स्थायी समाधान हो सके।

नशे का खात्मा करना बड़ी चुनौती

जिला ऊना पंजाब राज्य से सटा हुआ है। जिला की सीमाएं पंजाब राज्य के साथ होने के चलते पड़ोसी राज्य से जिला में आसानी से नशे की खेप पहुंच जाती है। इसके चलते लगातार ऊना जिला में नशे की प्रवृति बढ़ती जा रही है। हालांकि पुलिस प्रशासन की ओर से भी नशे के खिलाफ अभियान चलाए गए हैं, लेकिन उसके बावजूद नशे का खात्मा नहीं हो पा रहा है, लेकिन फिर भी जिला प्रशासन की ओर से जो अभियान चलाया गया है उसमें हर वर्ग को अपनी अहम भूमिका निभानी होगी, ताकि नशे की प्रवृति को जड़ से उखाड़ा  जा सके।

 

You might also like