खत्म की जाए पासपोर्ट की शर्त

चंडीगढ़  – पंजाब के सहकारिता मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने करतारपुर गलियारे द्वारा गुरुद्वारा दरबार साहिब, करतारपुर के दर्शन करने जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए जटिल प्रक्रिया को खुले दर्शन दीदार के रास्ते में बड़ी रुकावट बताते हुए भारत सरकार को इसकी प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए कहा है। आज यहां जारी प्रेस बयान में स. रंधावा ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की है कि वह इस मामले में निजी दखल देकर गलियारे द्वारा गुरुद्वारा साहिब के दर्शन करने जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया सरल और स्पष्ट बनाने के लिए हिदायतें दें। पुलिस पड़ताल और आगामी आवेदन करने की शर्तें भी खत्म की जाएं। उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि पासपोर्ट की शर्त खत्म होनी चाहिए, इसलिए भारत सरकार यह मामला पाकिस्तान सरकार के पास उठाया जाए। स. रंधावा ने कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की तरफ के पासपोर्ट की शर्त खत्म करने संबंधी किए ट्वीट की खबर प्रसारित होने के बाद श्रद्धालुओं के लिए इस संबंधी और भी दुविधा हो गई है, क्योंकि जब वह ऑनलाइन फॉर्म भरने लगते हैं, तो सबसे पहला विवरण पासपोर्ट का भरना पड़ता है। उन्होंने प्रधानमंत्री को यह अपील की है कि वह गृह मंत्रालय को वेबसाइट पर पासपोर्ट के विवरण वाला कालम खत्म करें और यदि पासपोर्ट की शर्त अमल के रूप में अभी भी लागू है, तो यह मामला अपने पाकिस्तानी हमरुतबा के पास उठाएं, जिससे पासपोर्ट की शर्त खत्म हो सके। उन्होंने कहा कि बहुत से श्रद्धालू बड़ी उम्र के हैं, जिन्होंने अपने पासपोर्ट नहीं बनवाए हैं और अब उनके खुले दर्शन दीदार के रास्ते में पासपोर्ट बड़ी दिक्कत बन रहा है। सहकारिता मंत्री ने कहा कि गृह मंत्रालय द्वारा करतारपुर जाकर गुरुद्वारा साहिब के दर्शन करने के लिए आवेदन करने वाले श्रद्धालुओं के लिए पड़ताल आदि की अनावश्यक रूकावटें लगाई गई हैं, जबकि वाघा के रास्ते पाकिस्तान जाने वाले भारतीयों और दूसरे मुल्कों में जाने वाले भारतीयों के लिए ऐसी कोई शर्त या नियम नहीं है। उन्होंने कहा कि गलियारे द्वारा दर्शन करने जाने वाले श्रद्धालुओं में बहुत उत्सुकता है, परंतु जटिल प्रक्रिया उनकी इच्छा के रास्ते में बड़ी रुकावट बन रही है, जिसको भारत सरकार को खत्म करना चाहिए।

You might also like